सूखा रोग ( सुखंडी ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

कल्याण आयुर्वेद- सूखा रोग, सुखंडी, रिकेट्स ( Rickts )

सूखा रोग ( सुखंडी ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय


सूखा रोग किसी भी उम्र की महिला व पुरुष को हो सकती है. चाहे वह बच्चा हो, युवा हो या बुड्ढा हो.

सूखा रोग ( RICKETS ) होने के कारण-

यह अधिक मार्ग चलने, उपवास अधिक रखने तथा क्षय अथवा वृद्धावस्था के कारण होता है. बालकों को सूखा रोग कम पौष्टिक भोजन मिलने के कारण से होता है. किसी भी व्यक्ति को अधिक दस्त होने से, उल्टी या ज्वर आदि रोगों में लापरवाही करने या छोटे बच्चों को बिल्ली लांघ जाती है या सूंघ जावे तो सूखा रोग हो जाता है. सुखंडी प्रायः 5 वर्ष से कम उम्र वाले बच्चों को यह रोग अधिक होता है.

सूखा रोग ( सुखंडी ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय


सूखा रोग ( RICKETS ) के लक्षण-

शरीर सूखता जाता है, केवल हड्डियाँ ही देखने में आवे, जीर्ण ज्वर सदा रहे, कभी-कभी ताप अधिक हो जाता है. किसी- किसी का पेट बड़ा हो जाता है और हाथ, पैर, पतले हो जाता है. खांसी, उल्टी, अतिसार, चिड़चिड़ापन, बोलने में लडखडाहट होता है. बच्चों का तालू नीचे दब जाए. हाथ लगाने से गड्ढा सा हो जाए और अधिक रोए. इसमें चूना का मात्रा शरीर में कम हो जाता है. यानी कैल्शियम की कमी हो जाती है. आंखें भी कमजोर हो जाती है.

सूखा रोग ( RICKETS ) के आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय-

1 .प्रवाल पंचामृत आधा ग्राम और सितोपलादि चूर्ण 1 ग्राम, गोदंती भस्म आधा ग्राम और स्वर्ण बसंत मालती 1-1 गुंज सवेरे और रात को शहद के साथ सेवन कराएं और चवनप्राश अवलेह 5-5 ग्राम, अंशमनी बटी नंबर वन 1-1 गोली दिन में तीन बार चूने के पानी के साथ सेवन कराएं.

2 .दस्त अधिक हो रहे हो तो कर्पूर वटी या जाति फलादि चूर्ण देवें. अभ्रक भस्म, शंख भस्म, कपरदक भस्म, प्रवाल भस्म, मुक्त शुक्ति भस्म, लवंगादि चूर्ण, प्रवालादि चूर्ण, दशमूलारिष्ट, अमृतारिष्ट, लोहासव, द्राक्षासव आदि का सेवन जरुरत के अनुसार करना लाभदायक होता है. शरीर को महालक्ष्मी तेल से मालिश करें. खाने में पौष्टिक चीज है. दूध, मक्खन, फल आदि पदार्थ का सेवन कराएं.

3 .सुखंडी रोग दूर करने में टमाटर का रस मददगार होता है. इसके लिए टमाटर का रस दिन भर में आधा से एक गिलास की मात्रा में पिलाना चाहिए.

सूखा रोग ( सुखंडी ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय


4 .अंगूर का रस जितना हो सके बच्चे को पिलाना फायदेमंद होता है. अंगूर के रस में टमाटर का रस मिलाकर पीने से बच्चा सेहतमंद और तंदुरुस्त हो जाता है.

सूखा रोग ( सुखंडी ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय


5 .बादाम को रात को भिगोकर रख दे. सुबह उसे पीसकर दूध के साथ नियमित पिलाने से सूखा रोग कुछ दिन में ठीक हो जाता है.

सूखा रोग ( सुखंडी ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय


6 .नागर मोथा, पीपल, अतीश और काकड़ा सिंगी को बराबर मात्रा में लेकर पीसकर चूर्ण बना लें. फिर इस चूर्ण में से एक चुटकी चूर्ण लेकर शहद के साथ बच्चों को खिलाने से बुखार, अतिसार, खांसी तथा सूखा रोग ठीक हो जाता है.

7 .100 ग्राम तुलसी की पत्ती, 5 ग्राम काली मिर्च का पाउडर और स्वादानुसार साल भर पुराना गुड 200ml पानी में डालकर इसे उबालें. जब उबलते- उबलते आधा रह जाए तो इसे आंच से उतारकर 100 ml चुने का पानी मिलाकर फिर से उबालें. जब यह 100ml पानी बच जाए तो इसे अच्छी तरह छान कर शीशी में भरकर रख लें. और इसमें से 5ml की मात्रा में सुबह-शाम सेवन कराएं. इसके नियमित सेवन करने से पुराने से पुराने सूखा रोग ( रिकेट्स ) ठीक हो जाता हैं. यह आजमाया हुआ नुस्खा है और यह 100% कारगर उपाय है.

चुने का पानी बनाने की विधि- 25 ग्राम खाने का चुना 150 ग्राम पानी किसी मिटटी के बर्तन में घोलकर छोड़ दें और 48 घंटे बाद पानी को नितार लें यही चुने का पानी है.

 आयुर्वेद चिकित्सक- डॉ. पी.के. शर्मा. ( एच.एल.टी. रांची )

Post a Comment

0 Comments