महिला व पुरुषों में यौन क्षमता बढ़ाने के साथ ही कई स्वास्थ्य समस्याओं से दूर रखता है यह सस्ती चीज, जानें खाने के फायदे

कल्याण आयुर्वेद- महिला हो या पुरुष हर किसी की चाहत होती है कि उनकी यौन क्षमता मजबूत हो. साथ ही उनका शारीरिक स्वास्थ्य भी ठीक रहे. जिसके लिए लोग मिनरल्स, विटामिंस, प्रोटीन युक्त चीजों का सेवन करते हैं. लेकिन आज हम आपको एक ऐसी चीज के बारे में बताने जा रहे हैं. जिसका सेवन आप नियमित करते हैं तो यौन क्षमता बढ़ाने के साथ ही कई शारीरिक स्वास्थ्य समस्याओं से बचाए रखने में आपकी मदद करेगा.
महिला व पुरुषों में यौन क्षमता बढ़ाने के साथ ही कई स्वास्थ्य समस्याओं से दूर रखता है यह सस्ती चीज, जानें खाने के फायदे
हम आज जिस सस्ती चीज के बारे में बात करने जा रहे हैं. वह है चुकंदर. चुकंदर का सेवन करना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है क्योंकि इसमें कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं. चुकंदर में नाइट्रेट, फाइबर, फोलिक एसिड, विटामिन सी, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, सोडियम, जिंक, कॉपर जैसे खनिज तत्व पाए जाते हैं जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद होते हैं. चुकंदर में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा भरपूर होती है. इस कारण यह भरपूर उर्जा देता है. सब्जियों में सबसे अधिक शक्कर चुकंदर में ही होता है.
महिला व पुरुषों में यौन क्षमता बढ़ाने के साथ ही कई स्वास्थ्य समस्याओं से दूर रखता है यह सस्ती चीज, जानें खाने के फायदे
चुकंदर खाने के फायदे-
1 .शारीरिक क्षमता में करता है बढ़ोतरी-
चुकंदर के सेवन से रक्त का संचार बढ़ता है. ब्लड प्रेशर कम होता है. यह शारीरिक क्षमता को बढ़ाता है. विशेषकर कड़ी मेहनत करने वाली एक्सरसाइज करते समय या दौड़ने या साइकिल चलाने की क्षमता में भी बढ़ोतरी कर सकता है. यह सब फायदे चुकंदर में नाइट्रेट मौजूद होने के कारण होते हैं.
चुकंदर में मौजूद नाइट्रेट तत्वों से नाइट्राइट और नाइट्रिक ऑक्साइड मिलते हैं. यह दोनों तत्व रक्त की धमनियों को लचीला और चौड़ा बनाते हैं. इस कारण ब्लड प्रेशर नहीं बढ़ता है. ब्लड प्रेशर पर चुकंदर खाने का प्रभाव जल्दी नजर आता है. धमनियों के चौड़ा होने से फायदा यह होता है कि शरीर के प्रत्येक अंग में ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में पहुंचती है. जिसके कारण ऊर्जा का स्तर सही बना रहता है और जल्दी थकान महसूस नहीं होती है.
2 .ह्रदय रोग-
चुकंदर में घुलनशील फाइबर प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है. इसमें बीटासियानीन और बेटानीन नामक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं. यह ताकतवर एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो नुकसानदायक कोलेस्ट्रोल को कम करते हैं तथा इसे धमनियों में जमने नहीं देते हैं. इस तरह हृदय रोग से बचाव हो सकता है चुकंदर का ब्लड प्रेशर को कम करने वाला गुण भी हृदय रोग से बचाव करता है.
3 .खून की कमी-
चुकंदर में प्रचुर मात्रा में फोलिक एसिड मौजूद होता है. फोलिक एसिड की कमी से लाल रक्त कणों में कमी होकर एनीमिया हो सकता है. चुकंदर का रस नियमित कुछ दिनों तक पीने से खून की कमी दूर होकर कमजोरी दूर होती है. फोलिक एसिड गर्भावस्था में बहुत आवश्यक होता है. इसकी कमी से महिला या गर्भ में पल रहे बच्चे को तकलीफ हो सकती है.
4 .यौन क्षमता-
चुकंदर को प्राकृतिक वियाग्रा कहा जाता है क्योंकि चुकंदर के सेवन से शरीर को नाइट्रिक ऑक्साइड प्राप्त होता है. इससे नसें फैल जाती है और उसमें रक्त आसानी से दौड़ता है. गुप्तांग में भी रक्त की मात्रा पर्याप्त रूप से पहुंचती है. जिसके कारण लिंग में पर्याप्त कड़ापन आता है. स्त्री- पुरुष के यौन अंगों की कार्यविधि सुधरती है और यही काम वियाग्रा करता है.
इसके अलावा चुकंदर में बोरोन नामक तत्व मौजूद होता है जो सेक्स हार्मोन बनाने में मददगार होता है. इस प्रकार चुकंदर का सेवन यौन संबंध के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है.
5 .हड्डियों और दांतों के लिए-
चुकंदर में सिलिका खनिज मौजूद होता है जो शरीर में कैल्शियम के अवशोषण में मदद करता है. अतः चुकंदर खाने से हड्डियां और दातें भी मजबूत बनने में मदद मिलती है दांत में कीड़ा जल्दी नहीं लगता है.
6 .पाचन तंत्र-
चुकंदर में पाए जाने वाला फाइबर घुलनशील होता है जो आंतों को साफ करता है. इस वजह से कब्ज और बवासीर की परेशानी से बचाव होता है. इसका फाइबर पाचन तंत्र से हानिकारक तत्वों को खत्म कर मजबूत बनाते हैं.
7 .मासिक धर्म की परेशानी-
मासिक धर्म के दौरान कमर दर्द, पीठ दर्द तथा कमजोरी समस्या होती है. ऐसे में चुकंदर का नियमित सेवन करना फायदेमंद होता है. इसके सेवन से खून की कमी दूर होकर हीमोग्लोबिन का स्तर बना रहता है. खून की कमी होने से मासिक धर्म के समय ज्यादा परेशानी होती है तथा इससे रक्त स्राव भी अधिक मात्रा में हो सकता है अतः चुकंदर का सेवन करना महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है.
चुकंदर के नुकसान-
* चुकंदर में फ़ोलेट होता है यह गुर्दे की पथरी की शिकायत वाले लोगों को कम मात्रा में उपयोग करना चाहिए.
* चुकंदर में कुछ विशेष प्रकार के कार्बोहाइड्रेट्स से किसी- किसी को पेट दर्द की शिकायत हो सकती है. ऐसी अवस्था में इसे कम खाना चाहिए या चिकित्सक की सलाह लेना चाहिए.
* चुकंदर का सेवन करने से पेशाब या मल का रंग लाल या गुलाबी हो सकता है जो चुकंदर का सेवन बंद करने के बाद स्वतः ही ठीक हो जाता है इसलिए घबराना नहीं चाहिए.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर करें और स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारियां रोजाना पाने के लिए इस चैनल को अवश्य फॉलो कर लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments