पहली कोरोना वैक्सीन जिसका 108 लोगों पर हुआ परीक्षण पूरा, जानें क्या आया नतीजा

कल्याण आयुर्वेद- चीन में बनाई गई कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर उम्मीद बढ़ाने वाली खबर आई है. परीक्षण किया गया. परीक्षण के दौरान पता चला कि वायरस के खिलाफ इम्यून रिस्पांस पैदा करती है.
पहली कोरोना वैक्सीन जिसका 108 लोगों पर हुआ परीक्षण पूरा, जानें क्या आया नतीजा
चीन में बने यह वैक्सीन के परीक्षण को लेकर मेडिकल जनरल The Lancet में रिपोर्ट प्रकाशित की गई है. न्यूयार्क टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक रिसर्च ने कई लैब में वैक्सीन को लेकर स्टडी की. चीन की Ad5 वैक्सीन को कैंसिनो कंपनी ने बनाई है. इस वैक्सीन को ओपन यूनिवर्सिटी की ओर से कोरोनावायरस वैक्सीन और अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना की वैक्सीन से आगे समझा जा रहा है. इस साल की शुरुआत में ही मानव परीक्षण शुरू हो गया था.
हालांकि चीनी वैक्सीन के कई साइड इफेक्ट भी सामने आए हैं. जैसे कि दर्द और बुखार. लेकिन यह 1 महीने के अंदर ही खत्म हो गए. वैक्सीन से कोई गंभीर खतरा पैदा नहीं हुआ.
स्टडी में पता चला कि वैक्सीन लगाए जाने के करीब 28 दिन बाद व्यक्ति के शरीर में इम्यून रेस्पोंस सबसे बेहतर था. बता दें कि इस वक्त दुनिया के अलग-अलग देशों में मेडिकल वैज्ञानिकों की करीब 100 टीमें वैक्सीन की तलाश में लगी हुई है.
फाइजर BioNTECH और कैंसिनो जैसी कंपनी कोरोनावायरस वैक्सीन का मानव पर ट्रायल शुरू कर चुकी है. अमेरिका के स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग ने गुरुवार को कहा था कि ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन तैयार करने के लिए दवा कंपनी एस्ट्रजेनका को 1.2 बिलीयन डॉलर तक की रकम दी जाएगी.
सोमवार को अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना ने कोरोनावायरस वैक्सीन के पहले राउंड के ट्रायल की जानकारी दी थी. पहले राउंड में 8 लोगों को वैक्सीन दी गई थी. कंपनी का कहना था कि वैक्सीन सुरक्षित मालूम पड़ती है और इम्यून रिस्पांस पैदा करती है. बुधवार को प्रोटोटाइप बंदरों को संक्रमित होने से बचा लिया.
स्रोत- आज तक.

Post a Comment

0 Comments