क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे

कल्याण आयुर्वेद- कई अध्ययन बताते हैं कि शारीरिक संबंध पार्टनर्स के रिश्ते को मजबूत बनाता है तो वही इसके कई स्वास्थ्यवर्धक फायदे भी होते हैं. क्योंकि शारीरिक संबंध बनाना मानसिक एवं शारीरिक तनाव को दूर करता है यह एक्सरसाइज की तरह काम करता है.
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
शोध बताते हैं कि शारीरिक संबंध से जवानी लंबी हो जाती है और आपकी उम्र 7 से 10 साल तक कम दिखने लगती है. ताजा अध्ययन के अनुसार हर सप्ताह नियमित शारीरिक संबंध एक या दो पेशंस करने पर आपके स्वास्थ्य और मस्तिष्क पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है.
तो चलिए जानते हैं नियमित शारीरिक संबंध बनाने से सेहत से जुड़े 12 फायदे-
1 .बनाता है आपको अधिक जवान-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
रॉयल एडिनबर्ग हॉस्पिटल इंग्लैंड के क्लीनिकल न्यूरोफिजियोलॉजिस्ट डॉक्टर विक्स मानते हैं कि एक्टिव शारीरिक संबंध बनाने वाले बुजुर्ग दंपति अपनी उम्र से 5 से 7 साल छोटे दिखते हैं. 10 साल के शोध में उन्होंने पाया है कि इसके लिए संभोग की गिनती की अपेक्षा सेक्स की क्वालिटी का अधिक योगदान होता है. मतलब प्रतिदिन रियल शारीरिक संबंध की जरूरत नहीं, प्यार से सहलाना, आलिंगन करना, चुंबन लेना सभी आपके आनंद को बढ़ाकर उम्र के बढ़ाव को रोकते हैं और आपकी कामेच्छा की कमी के कारण का रामबाण उपाय माने जाते हैं.
2 .जरूरी है लंबी उम्र के लिए-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
शारीरिक संबंध के दौरान DHEA नामक एस्ट्रॉयड शरीर में बनता है जिसे उम्र के बढ़ाव को रोकने वाला पाया गया है. शारीरिक संबंध के बाद इसकी मात्रा सामान्य से 5 गुना तक ज्यादा हो जाती है. जिससे जवानी का आभास और उमंग पूरी उम्र तक बनी रहती है. ऑस्ट्रेलिया में हुए एक अध्ययन के अनुसार सप्ताह में तीन बार शारीरिक संबंध बनाने वालों की किसी रोग से होने वाली मृत्यु दर 50% तक कम हो जाती है. इस प्रकार शारीरिक संबंध उम्र को बढ़ने में लाभकारी पाया गया है.
3 .मिटाता है झुर्रियां-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
शारीरिक संबंध के दौरान एस्ट्रोजन नामक हार्मोन बनता है. जिसमें इस हार्मोन की अधिकता रहती है. उनके चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़ती है और त्वचा खुश्क नहीं होती है. महिलाओं का वह वर्ग जिनकी मासिक धर्म आयु के कारण बंद हो गई हो उनमें इस हार्मोन की कमी अक्सर पाई जाती है. यदि वे अपनी शारीरिक संबंध क्रिया को सप्ताह में एक या दो बार तक जारी रखें तो उन्हें इस हार्मोन की कमी नहीं होती है और चेहरा कांतिवान बना रहता है.
4 .बढ़ती है प्रजनन क्षमता-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
अध्ययनों में पाया गया है कि जितना अधिक शारीरिक संबंध बनाएंगे शुक्राणुओं की गुणवत्ता उतनी ही बढ़ेगी. क्योंकि शारीरिक संबंध बनाने के 2 दिन बाद तक शुक्राणु अधिक क्रियाशील पाए गए हैं. जबकि शारीरिक संबंध से 10 दिन दूर रहने पर उनकी सक्रियता कम मापी गई है. यदि आप बच्चा चाह रहे हैं तो अपने शुक्राणुओं को ताजा और स्वस्थ रखने के लिए सप्ताह में कम से कम 2 बार शारीरिक संबंध बनाइए ना कि तब जब महिला के डिम्ब का निर्माण हो. नियमित शारीरिक संबंध से महिलाओं के हार्मोन्स भी संतुलन में रहते हैं. जिस कारण उनका मासिक धर्म सामान्य रहता है और CONCEIVE करने में भी सहायता रहती है.
5 .बढ़ाता है रोग प्रतिरोधक क्षमता-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
नियमित शारीरिक संबंध बनाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी बढ़ोतरी होती है. सप्ताह में एक या दो बार शारीरिक संबंध बनाने से इम्यूनोग्लोबुलीन ए अथवा आई जी ए नामक प्रतिरोधक हार्मोन की मात्रा 30% तक अधिक हो जाती है जो हमें सामान्य विकारों जैसे खांसी, जुकाम, एलर्जी आदि से बचने में मददगार होती है.
6 .मासिक धर्म के कष्ट से मिलता है राहत-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
शारीरिक संबंध बनाने से महिलाओं के मासिक धर्म में होने वाले कष्ट को कम किया जा सकता है या खत्म हो जाते हैं. शारीरिक संबंध का आनंद उनके यूट्रस के क्रैंप्स नहीं होने देता साथ ही मसल्स की कसरत भी हो जाती है. एक शोध में महिलाओं ने बताया है कि मासिक धर्म के दौरान शारीरिक संबंध बनाने से उन्हें क्रैंप्स की पीड़ा में काफी राहत मिलती है.
7 .असंयमित स्राव की रोकथाम-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
गर्भावस्था और रजोनिवृति के कारण योनि के मसल्स ढीले हो जाया करते हैं. जिस कारण तरल पदार्थों व मूत्र का असंयमित स्राव हो जाया करता है. ऐसे में डॉक्टर महिलाओं को विशेष पेल्विक एक्सरसाइज करने और बैठकर झाड़ू पोछा करने इत्यादि की सलाह देते हैं ताकि मसल्स की खोई हुई ताकत वापस मिल सके. शारीरिक संबंध से महिलाओं के पेल्विक मसल्स की कसरत हो जाती है जो योनि की लीकेज रोकने में लाभकारी रहती है. यह उनके लिए लाभकारी है जिनकी योनि से स्राव रुकता नहीं है.
8 .हार्ट अटैक से बचाव-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
बहुत सारे शोध इस बात से सहमत हैं कि नियमित शारीरिक संबंध बनाने से हार्ट अटैक का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है. क्वींस यूनिवर्सिटी वेलफास्ट के एक अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला है कि सप्ताह में तीन बार शारीरिक संबंध बनाने से दिल के दौरे के खतरे को 50% तक कमी आई है. इजराइल में हुए एक अन्य शोध में पाया गया है कि वे महिलाएं जो सप्ताह में दो बार शारीरिक संबंध के दौरान चरम सुख पा लेती हैं. उनके हृदय संबंधी रोगों में 30% तक कमी आ जाती है.
9 .बढ़ाता है आकर्षण-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
शारीरिक संबंध बनाने पर शरीर से फेरोमोंस ( Pheromones ) नामक रसायन निकलता है. जिससे दूसरे सेक्स (लिंग ) के लोग आपके प्रति आकर्षित होते हैं. इसी हार्मोन के कारण आपकी अपनी सहवासी ( पार्टनर ) के साथ बार-बार शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा होती है.
10 .डिप्रेशन से दिलाए छुटकारा-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
सेरोटोनिन नामक शरीर का वह हार्मोन रसायन है जो चिंता, तनाव और भय से मुक्ति देकर आपको खुशी का फील कर आता है, यह कसरत करने, किसी मशक्कत भरे काम करने ( सप्ताह भर कपड़े धोने ) के पूरा होने के बाद की खुशी और तसल्ली का एहसास कराता है. शारीरिक संबंध बनाने के बाद भी मस्तिष्क सेरोटोनिन का रिसाव बढ़ा देता है और डिप्रेशन, चिंता, तनाव जैसे विकारों पर रोक लग जाती है.
11 .अनिद्रा की समस्या होती है दूर-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
यदि आपको नींद की कमी सताती है तो नींद की दवाई की अपेक्षा आपको शारीरिक संबंध बनाना अच्छा विकल्प है. शारीरिक संबंध पूरा होने पर ऑक्सिकॉन्टिन का रिसाव होता है जो एक अन्य प्रकार का फीलगुड हार्मोन है. इसके रिसाव के चलते आप शारीरिक संबंध के तुरंत बाद गहरी नींद में चले जाते हैं जो स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है.
12 .हड्डियों को मिलती है मजबूती-
क्यों जरूरी है शारीरिक संबंध? जानें 12 सेहत से जुड़े फायदे
उम्र के एक मोड़ पर महिलाओं को मासिक धर्म आना बंद हो जाता है. जिसे रजोनिवृत्ति कहा जाता है. रजोनिवृत्ति के बाद एस्ट्रोजन नामक हार्मोन के स्तर में कमी आने लगती है जो हड्डियों के क्षरण रोग ऑस्टियोपोरोसिस का कारण बन जाता है. शोध बताते हैं कि रजोनिवृत्ति के बाद नियमित शारीरिक संबंध बनाने से एस्ट्रोजन के अवसरों में कमी नहीं आती है. जिस कारण महिलाओं को ऑस्टियोपोरोसिस से बचने में मदद मिलती है. यही नहीं पुरुषों को भी बड़ी उम्र में शारीरिक संबंध बनाने से लाभ होता है. शारीरिक संबंध के दौरान उनके टेस्टोस्टेरोन स्तर बढ़ जाते हैं जो उन्हें ऑस्टियोपोरोसिस से बचाने में मददगार होते हैं.
सारशब्द-
अच्छे खान-पान कसरत और नींद के साथ-साथ शारीरिक संबंध का भी स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. चाहे आप उम्र में किसी भी पड़ाव पर क्यों ना हो. नियमित शारीरिक संबंध कई रोगों से बचाव भी करता है और उम्र के बढ़ावा को रोकने में सहायक होता है. इसे महिलाओं के लिए कामेच्छा बढ़ाने के घरेलू नुस्खों के रूप में भी देखा जाता है. जीवन को चिंता मुक्त, आनंदित और पुष्ट रखने के लिए शारीरिक संबंध को सही नजरिए से देखना और करना एक बड़ी समझदारी की बात है.
धन्यवाद.
स्रोत- आयुर्वेद सेंट्रल

Post a Comment

0 Comments