बड़ी खुशखबरी- कामयाब हो गई कोरोना की ये तकनीक, 73 मरीजों को इसी से किया गया ठीक

कल्याण आयुर्वेद- आज कोरोनावायरस की समस्या से निपटने के लिए पूरी दुनिया में वैक्सीन बनाने के लिए वैज्ञानिक जुटे हुए हैं. डॉक्टर और वैज्ञानिक लगातार इस पर शोध कर रहे हैं और कई देशों में संभावित दवाइयों के क्लीनिकल ट्रायल भी किए जा रहे हैं. इसी बीच संयुक्त अरब अमीरात ने भी कोरोनावायरस सफल ट्रायल करने का दावा किया है. यूएई के एक संस्थान ने दावा किया है कि उसने कोविड-19 संक्रमण के इलाज के लिए गेमचेंजर तकनीक निकाली है.
बड़ी खुशखबरी- कामयाब हो गई कोरोना की ये तकनीक, 73 मरीजों को इसी से किया गया ठीक
बता दें कि संस्थान ने एक स्टेम सेल्स की मदद से कोरोना मरीजों के इलाज करने का दावा किया है. बताया जा रहा है कि जितनी मरीज का इस तकनीक के जरिए इलाज किया सभी ठीक हो चुके हैं. यूएई में कोरोनावायरस रोकने के लिए इस तरह के करीब 60 प्रोजेक्ट चल रहे हैं. यूएई के विदेश मंत्री हिंद अल ओतैबा ने ट्वीट करते हुए इस प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी है. उन्होंने बताया है कि अबू धाबी स्टेम सेल सेंटर ने कोविड-19 संक्रमण के इलाज का तरीका निकाला है.
इस नई तकनीक के अनुसार मरीज के खून से स्टेम सेल से निकालकर फेफड़ों में डाले जाते हैं और फेफड़ों के सेल्स को रीजेनरेट किया जाता है. इसके साथ ही इम्यूनिटी सेल्स को ओवररिएक्ट करने से रोका जाता है. इस प्रक्रिया से मरीज ठीक हो जाता है. विदेश मंत्री ओतैबा ने बताया है कि इस तकनीक का इस्तेमाल किया गया है और पहले चरण का क्लिनिकल ट्रायल सफल रहा है.
अब तक कुल 73 कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों पर इसका परीक्षण किया जा चुका है और सभी की सभी ठीक हो चुके हैं. किसी भी मरीज में कोई साइड इफेक्ट नहीं देखा गया है. अब इस ट्रीटमेंट प्रक्रिया को पुख्ता साबित करने के लिए अधिक से अधिक ट्रायल किए जा रहे हैं. जिसका परिणाम आने वाले दिनों में दिखेंगे. इसके बाद इसके नतीजों को देखते हुए कुछ आधिकारिक फैसला लिया जाएगा.
बताते चले कि Remdesivir को कोरोना के खिलाफ इलाज के लिए सबसे प्रभावी दवा माना जा रहा है. अमेरिका में इसके थर्ड स्टेज की टेस्टिंग में पॉजिटिव रिजल्ट्स आए हैं. कैलिफोर्निया की दवा कंपनी की लीड साइंसेज ने कहा है कि शुरुआती रिजल्ट्स बताते हैं कि Remdesivir दवा की 5 दिन की खुराक के बाद कोविड-19 संक्रमण मरीजों में से 50% की हालत में सुधार हुआ.
थर्ड स्टेज की टेस्टिंग के बाद ही दवा को अप्रूवल मिलता है. बता दें कि Remdesivir को अभी तक विश्व में कोई मंजूरी या लाइसेंस नहीं मिला है और ना ही कोविड-19 के उपचार में यह अभी तक सुरक्षित या प्रभावी साबित हुआ है. आपको बता दें कि  Remdesivir इबोला के इलाज के लिए विकसित किया गया था.
स्रोत- दबंग दुनिया

Post a Comment

0 Comments