भारत जल्द जीतेगा कोरोना की जंग, यह है सबसे बड़ा कारण

कल्याण आयुर्वेद- भारत में कोरोनावायरस संक्रमण का कहर बढ़ता ही जा रहा है. पिछले 4 दिनों से कोरोनावायरस ओं की संख्या में हर दिन 3000 के आंकड़े को पार कर रही है. देश में इस समय कोरोनावायरस मरीजों की संख्या 70000 के पार पहुंच चुकी है. जबकि 2263 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. इन सबके बीच एक राहत देने वाली खबर यह है कि देश में 95% संक्रमितों की बीमारी गंभीर रूप धारण नहीं कर रही है. यही कारण है कि कोरोना संक्रमित मरीजों के ठीक होने का अनुपात पहले से काफी सुधरा है. स्वास्थ्य मंत्रालय से जुड़े आंकड़ों के अनुसार महज 5% कोरोनावायरस भीर स्थिति में पहुंच रहे हैं.
स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार पिछले सप्ताह देश में अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती 4. 8 फ़ीसदी मरीज आईसीयू में भर्ती थे. जबकि 3. 3 फ़ीसदी कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट की आवश्यकता थी, जबकि 1.1 फ़ीसदी कोरोना मरीज वेंटिलेटर पर थे. इस तरह से देखें तो लगभग 9. 2 प्रतिशत कोरोनावायरस की हालत गंभीर थी. हालांकि इस सप्ताह इन मरीजों की संख्या में काफी सुधार हुआ है.
स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी नए आंकड़ों के अनुसार इस समय आईसीयू में 2. 4 फीसदी ऑक्सीजन पर 1.88 तथा वेंटीलेटर पर 0.38 फ़ीसदी मरीज रखे गए हैं. इन लिहाज से अब केवल 4.67% मरीज ही कोरोना की गंभीर स्थिति से गुजर रहे हैं. गंभीर रूप से कोरोना संक्रमित मरीजों के तेजी से ठीक होने के मामले में स्वास्थ्य मंत्रालय की उम्मीद बढ़ा दी है.
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में कोरोना का रिकवरी रेट 29.36 प्रतिशत हो चुका है. यानी हॉस्पिटल में भर्ती हुआ हर तीन में से एक मरीज अब ठीक हो चुका है. यही नहीं देश भर के अस्पतालों में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों के लिए 1,30,000 से ज्यादा बेड का इंतजाम किया गया है. लेकिन अभी तक सिर्फ 1.5 प्रतिशत बेड का ही इस्तेमाल किया गया है.
स्रोत- news18

Post a Comment

0 Comments