कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है धनियाँ, जानें सेवन करने की विधि

कल्याण आयुर्वेद- हर किचन में मसाले के तौर पर इस्तेमाल होने वाला धनिया कई औषधीय गुणों से भरपूर होती है. इसलिए ना सिर्फ भोजन के स्वाद को बढ़ाती है बल्कि कई स्वास्थ्य लाभ हमारे शरीर को देती है, आयुर्वेद में धनिया का प्रयोग कई औषधियों में किया जाता है.
कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है धनियाँ, जानें सेवन करने की विधि
धनिया में एंटीबैक्टीरियल, विटामिन और मिनरल जैसे तत्व मौजूद होते हैं जो सेहत के लिए काफी लाभदायक माने जाते हैं. हालांकि कुछ लोगों के लिए धनियाँ का सेवन करना नुकसानदायक भी हो सकता है.
तो चलिए जानते हैं धनिए के बीजों के फायदे और नुकसान के बारे में-
1 .गैस, एसिडिटी की समस्या-
आजकल ज्यादातर लोगों को गलत खानपान की आदतों की वजह से गैस, एसिडिटी की समस्या बनी रहती है. ऐसे लोगों के लिए धनियाँ काफी लाभदायक होते हैं. इसके लिए आधा चम्मच धनिया के बीज को एक गिलास पानी में भिगोकर रख दें और सुबह इस पानी का सेवन कर लें.
2 .मोटापा के लिए-
आजकल ज्यादातर लोग मोटापे की समस्या से परेशान रहते हैं और उपाय ढूंढते रहते हैं जबकि धनिया मोटापे को कम करने में काफी मददगार होता है. इसके लिए एक गिलास पानी में आधा से एक चम्मच धनिए को दो-तीन घंटे के लिए भिगो कर रख दें. फिर इस पानी को उबालें. पानी आधा रह जाए तो इस पानी का दिन में 2 बार सेवन करें. इससे आपको भूख कम लगेगी वजन कम होगा और इम्यून सिस्टम मजबूत होगा.
3 .खून की कमी दूर करने के लिए-
धनिया खून की कमी को दूर करने में भी काफी मददगार होता है क्योंकि इसमें आयरन होता है जो कि खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाता है. यही कारण है कि धनिए के बीज का सेवन करने से शरीर में खून की कमी दूर होती है.
4 .थायराइड के लिए-
लगभग 2 चम्मच साबुत धनिया के बीजों को रात को लगभग एक गिलास पानी में भिगोकर रख दें. सुबह इस धनिया को पानी के साथ 5 मिनट के लिए उबालें और छान कर यह पानी गरम गरम ही चाय की तरह पी जाए. अगर आप थायराइड को नियंत्रित करने के लिए दवा ले रहे हैं तो सबसे पहले खाली पेट अपनी दवा ले और फिर 30 मिनट बाद यह पानी पिए और इसके 30 से 45 मिनट बाद आप नाश्ता करें. अगर आप चाहें तो इसे दिन में दो बार खाली पेट भी ले सकती हैं. यह थायराइड को नियंत्रित करने में काफी फायदेमंद होगा. लगभग 30 से 45 दिनों तक नियमित सेवन करने के बाद आप अपना थायराइड लेबल चेक करा सकते हैं.
5 .आंखों के लिए है फायदेमंद-
थोड़ा-सा धनिया कूटकर पानी में उबालकर ठंडा कर लें. फिर इस मिश्रण को छानकर पानी अलग कर लें और शीशी में भर लें और आंखों में नियमित डालें. इससे आंखों में जलन, आंखों में दर्द होना तथा आंखों से पानी गिरने जैसी समस्याएं दूर होती है. लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि आंखों से जुड़ी कोई सर्जरी हुई है तो इसका इस्तेमाल न करें.
6 .गठिया के लिए है फायदेमंद-
धनिया गठिया के लिए भी काफी फायदेमंद होता है. आधा चम्मच धनिया के बीज के पाउडर में शिया बटर या कोकोनट वाटर मिलाकर इस बाम में चार-पांच बंदे कोकोनट तेल की डालकर इससे हड्डियों के जोड़ों पर मसाज करें. आप चाहे तो टी- ट्री जैसे सूजन कम करने वाले तेलों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं काफी लाभ होगा.
7 .पाचन के लिए-
पाचन तंत्र में धनिया काफी लाभदायक होता है. एक दो चम्मच धनिया को कोकोनट मिल्क, खीरा और तरबूज ऐसी ठंडी तासीर वाली चीजों के साथ मिलाकर एक स्मूदी तैयार कर लें. इसका सेवन करने से आपका पाचन तंत्र मजबूत होगा. खाया- पिया भी अच्छी तरह से हजम होगा. अगर पेट में सूजन है तो वह भी दूर हो जाएगा.
8 .एलर्जी के लिए है लाभदायक-
धनिया का सेवन करने से आंखों की और हाथों पैरों की जलन दूर होती है. धनिया के पत्तों को शहद के साथ मिलाकर एक पेस्ट तैयार कर ले और इसे शरीर पर होने वाली खुजली पर लगाएं. एक-दो दिन में ही फर्क दिखने लगेगा.
9 .मुंह के छालों के लिए-
पेट की समस्या के कारण मुंह में छाले होना भी एक आम समस्या है. कई बार यह समस्या इतनी भयंकर हो जाती है कि हमें इसके कारण खाना खाना भी मुश्किल हो जाता है, ऐसे में इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए सूखा धनिया का प्रयोग कीजिए. इसके लिए एक चम्मच पिसा धनिया 250 मिलीलीटर पानी में मसलकर छान लीजिए. इस पानी से दिन में दो-तीन बार कुल्ला करें छाले की समस्या दूर हो जाएगी.
10 .डायबिटीज के मरीजों के लिए-
धनिया डायबिटीज प्रबंधन के लिए भी भरोसेमंद उपचारों में से एक है. द ब्रितानी जनरल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार यह पाया गया है कि धनिए के बीज में कुछ यौगिक मौजूद होते हैं जो खाने पर एंटी हाइपरग्लिसमिक इंसुलिन डिसचार्जिंग और उत्पादन करते हैं. जिससे आपके ब्लड ग्लूकोज लेवल को नियंत्रित करने में मदद मिलती है.
11 .प्रेगनेंसी में-
गर्भधारण करने के दो-तीन महीने तक गर्भवती महिलाओं को जी मिचलाना, उल्टी होना आम समस्या होता है. ऐसे में धनिया का काढ़ा बनाकर एक कप पानी में एक चम्मच पिसी मिश्री मिलाकर पीने से यह समस्या दूर हो जाती है या कम हो जाती है.
धनिए के नुकसान-
ज्यादा धनिया खाना मां बनने वाली महिलाओं के लिए नुकसानदायक होता है. बहुत ज्यादा धनिया खाने से शरीर की ग्रंथियां प्रभावित हो जाती है. इसलिए मां बनने वाली महिलाओं और शिशु को दूध पिलाने वाली महिलाओं को धनिए का ज्यादा मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए. इसके साथ ही जरूरत से ज्यादा धनिए का सेवन करने से पेट पर दबाव पड़ता है. जिससे लीवर की परेशानी उत्पन्न हो सकती है. इसलिए नियमित मात्रा में ही धनिए का सेवन करें.

Post a Comment

0 Comments