महिला व पुरुषों में चिड़चिड़ापन की वजह हो सकती है हार्मोन असंतुलन, जानें बचाव के उपाय

कल्याण आयुर्वेद- महिला हो या पुरुष दोनों में ही हार्मोन ना सिर्फ शरीर की वृद्धि और विकास को प्रभावित करते हैं बल्कि शरीर के सभी तंत्रों की गतिविधियों को भी कंट्रोल करते हैं. लेकिन जब यह हार्मोन असंतुलित हो जाते हैं तो शरीर के कार्य प्रणाली में गड़बड़ी आ जाती है और कई तरह की दिक्कतें होने लगती है.
महिला व पुरुषों में चिड़चिड़ापन की वजह हो सकती है हार्मोन असंतुलन, जानें बचाव के उपाय
हार्मोन क्या है ?
दरअसल हार्मोन किसी कोशिका या ग्रंथि द्वारा स्रावित होने वाले लिए रसायन है जो शरीर के दूसरे हिस्से में स्थित कोशिकाओं को भी प्रभावित करते हैं. शरीर के मेटाबॉलिज्म और इम्यून सिस्टम पर हार्मोन का सीधा असर पड़ता है. हमारे शरीर में कुल 230 हार्मोन होते हैं जो शरीर की विभिन्न क्रियाओं को नियंत्रित करते हैं. हार्मोन में थोड़ा सा बदलाव की मेटाबोलिक को प्रभावित करने के लिए अधिक होते हैं. यह एक केमिकल मैसेंजर की तरह एक कोशिका से दूसरी कोशिका तक संदेश पहुंचाने का काम करते हैं.
हार्मोन असंतुलन के क्या है कारण ?
हार्मोन असंतुलन के कई कारण हो सकते हैं. जैसे- खराब जीवनशैली, पोषण की कमी, एक्सरसाइज न करना, गलत डाइट, अधिक तनाव या उम्र आदि. अक्सर खराब खानपान और एक्सरसाइज न करने आदि से हार्मोन असंतुलित हो जाते हैं. महिलाओं और पुरुषों दोनों में हार्मोन असंतुलन के अलग-अलग प्रभाव होते हैं. जब जीवनशैली और खानपान में गड़बड़ी के कारण हार्मोन के स्राव में असंतुलन आने लगता है तो तरह-तरह की बीमारियां शरीर को घेरने लग जाती है.
हार्मोन असंतुलन केवल महिलाओं को ही प्रभावित नहीं करता है बल्कि यह पुरुषों को ही प्रभावित करता है. एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन और प्रोलैक्टिन हार्मोन पुरुषों के शरीर में उत्पादित होते हैं. इन सभी हरमोन में टेस्टोस्टेरोन पुरुषों के शरीर में मौजूद सबसे महत्वपूर्ण हार्मोन में से एक है. शरीर के समुचित कार्य को ठीक रखने के क्रम में टेस्टोस्टेरोन का स्तर बनाए रखना आवश्यक होता है.
महिला व पुरुषों में चिड़चिड़ापन की वजह हो सकती है हार्मोन असंतुलन, जानें बचाव के उपाय
हार्मोन असंतुलन का शरीर पर क्या पड़ता है प्रभाव ?
हार्मोन असंतुलन के कारण स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं उत्पन्न होने लगती है. जैसे- मुहासे होना, चेहरे और शरीर पर अधिक बालों का उगना, समय से पहले उम्र बढ़ने के लक्षण दिखाई देना, यौन इच्छा के प्रति अनिच्छा होना जैसी समस्याएं होने लगी है. खासतौर पर जब पुरुषों में हार्मोन असंतुलन होता है. तब उनमें चिड़चिड़ापन, स्पर्म कम बनना और सेक्स की चाह कम हो जाती है. लेकिन हार्मोन असंतुलन को संतुलित करने के लिए कई तरीके अपनाए जा सकते हैं. जैसे- दवाइयां, एक्सरसाइज, पौष्टिक आहार का सेवन करना आदि.
बचाव के उपाय-
करें जीवनशैली में परिवर्तन-
जीवन शैली में साधारण परिवर्तन के साथ पुरुष अपने शरीर में हार्मोन के असंतुलन को नियंत्रित कर सकते हैं. जैसे- ताजा सब्जियों और फलों का सेवन करना और कैफीन युक्त पदार्थों से दूर रहना.
पर्याप्त नींद लें-
पर्याप्त नींद नहीं लेना हार्मोन असंतुलन के कारण बनते हैं. इसलिए रात को अच्छी नींद प्रतिदिन पर्याप्त नींद लेने से मस्तिष्क और अधिक ग्रंथियों के माध्यम से हार्मोन संतुलित होता है तो हमेशा बहुत सी सारी समस्याओं का कम से कम करने के लिए प्रतिदिन कम से कम 8 घंटे सोने का लक्ष्य बनाएं.
करें एक्सरसाइज-
अतिरिक्त मांसपेशियों और पुरुषों की शारीरिक शक्ति का संबंध उनके शरीर में टेस्टोस्टेरोन की ऊंची राशि से होता है. यदि आप मांसपेशियों में कमजोर या शरीर को असमर्थ महसूस कर रहे हैं तो आपको एक्सरसाइज कर इस समस्या से उबरने में मदद मिलेगी. इसलिए सप्ताह में कम से कम 4 दिन एक्सरसाइज जरूर करें.
करें लहसुन का सेवन-
प्राचीन काल से ही लहसुन का प्रयोग एक बेहतर जीवन के लिए किया जाता रहा है. इसका अर्थ यह है कि यदि आप को सेक्स की इच्छा जागृत होती है और किसी तरह की यौन समस्या नहीं है तो आपके शरीर में हार्मोन का स्तर ही ठीक है. वास्तव में लहसुन खाने से शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन का लेवल बढ़ता है. जिसके कारण आप लंबे समय तक बिस्तर पर पार्टनर का साथ दे सकती हैं. लहसुन में आइसोफ्लेवोनेज पाया जाता है जो हार्मोन के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है. आप लहसुन को भी में उबालकर, सोस, सलाद, पास्ता आदि के रूप में भी सेवन कर सकते हैं. यह महिला व पुरुष दोनों के लिए ही फायदेमंद होता है.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर करें और स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारियां रोजाना आने के लिए इस चैनल को अवश्य फॉलो कर लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments