शुक्र नीति- पुरुष को कभी नहीं करनी चाहिए ये 3 काम, नही तो हो जाती है नष्ट और भ्रष्ट

शुक्र नीति- पुरुष को कभी नहीं करनी चाहिए ये 3 काम, नही तो हो जाती है नष्ट और भ्रष्ट
शुक्राचार्य की नीतियां आज के समय में भी प्रासंगिक है. उन्होंने अपनी एक नीति में बताया है कि तीन काम पुरुषों को कभी नहीं करनी चाहिए, नहीं तो यह तीन नष्ट और भ्रष्ट हो जाती है.
1 .पत्नी को किसी के भरोसे ना छोड़े-
शुक्राचार्य के अनुसार भूलकर भी अपनी पत्नी को किसी दूसरे पुरुष पर आश्रित नहीं छोड़ना चाहिए. क्योंकि परपुरुष ऐसी स्थिति का फायदा उठा सकता है और आपकी पत्नी को बहला-फुसलाकर या डर दिखाकर पथभ्रष्ट कर सकता है.
2 .अपना धन किसी को न दे-
पैसों के मामले में किसी भी दूसरे व्यक्ति पर भरोसा नहीं करना चाहिए. धन के मामले में लोगों की नियत बदलने में समय नहीं लगती है. इसलिए अपने हर लेन-देन का लेखा-जोखा अपने पास रखना चाहिए. दूसरे के सहारे धन होने पर आपका नुकसान ही होता है.
3 .अपनी पुस्तकें किसी को न दें-
शुक्राचार्य के अनुसार पुस्तक ज्ञान का स्रोत होता है और इसे दूसरों के हाथ में नहीं देना चाहिए. आप अपनी पुस्तक का जितना अच्छे से ख्याल रखेंगे कोई दूसरा इतना अच्छे से ख्याल नहीं रख सकता है. कई मामलों में आपको अपनी पुस्तक वापस नहीं मिलेगी और अगर मिल भी जाती है तो उसकी स्थिति पहले जैसी ठीक नहीं होगी. दूसरों को पुस्तक देने से उसकी क्षति की संभावना हमेशा बनी रहती है.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments