कोरोना से जंग में मोदी सरकार का एक्शन प्लान, इन लोगों के लिए लाई गई लोन योजना

जैसा कि आपको मालूम है कि लॉक डाउन- 4 के बाद अब अनलॉक 1 का आज पहला दिन शुरू हो गया है. अनलॉक 1 के पहले दिन ही मोदी कैबिनेट की अहम बैठक हुई. इस बैठक में सरकार की ओर से कई अहम फैसले लिए गए.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक हुई. सरकार के दूसरे कार्यकाल की पहली बैठक है. प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि बैठक में किसानों, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योगों को लेकर कई फैसला लिया गया है. मजबूत और महत्वपूर्ण भारत निर्माण में एमएसएमई की बड़ी भूमिका है. कोरोना वायरस को देखते हुए इस सेक्टर के लिए घोषणा की है. इसके प्रभावी क्रियान्वयन के लिए कई घोषणाएं की गई. इस बैठक में जावड़ेकर ने कहा एमएसएमई की सीमा 25 लाख से बढ़ाकर एक करोड़ की गई है. भारत सरकार ने एमएसएमई की परिभाषा को संशोधित किया है.
एमएसएमई के कारोबार की सीमा बढ़ाकर ₹50000000 की गई है. आज की बैठक में जो फैसले लिए गए हैं उससे रोजगार बढ़ाने में काफी मदद मिलेगी. देश में 6 करोड़ से ज्यादा एमएसएमई की अहम भूमिका है. लोग अपना काम काज ठीक से कर सकें. इसके लिए सरकार ने बड़े फैसले लिए हैं. एमएसएमई को लोन देने की व्यवस्था की गई है. एमएसएमई के लिए 20000 करोड रुपए लोन देने का प्रावधान है.
बता दे कि सैलून, पान की दुकान और मोची को भी इस योजना से लाभ मिलेगा. सरकार व्यवसाय को आसान बनाने की दिशा में कार्य कर रही है. एमएसएमई को लोन देने के लिए तीन लाख करोड़ की योजना है. रेहड़ी पटरी वालों के लिए लोन की योजना लाई गई है. रेहड़ी पटरी वालों को 10000 का लोन मिलेगा.

Post a Comment

0 Comments