रंक को भी राजा बना सकता है कछुआ, जानें घर में रखने के फायदे

वास्तु शास्त्र- पुराने समय से ही कछुए का जिक्र होता आया है. धार्मिक रूप से कछुआ को सौभाग्यशाली माना जाता है. वास्तु शास्त्र में कछुआ के कई गुण बताए गए हैं.
रंक को भी राजा बना सकता है कछुआ, जानें घर में रखने के फायदे
ऐसा माना जाता है कि घर में कछुए को रखने से सब काम सही होते हैं. यदि घर में पैसों की कमी हो गई है पैसों का आगमन बहुत कठिनाइयां उत्पन्न हो रही है तो आप भी कछुए के आसान उपाय को आजमाकर इसका लाभ उठा सकते हैं. यह बहुत ही सरल उपाय है जिसे हर कोई आसानी से कर सकता है.
आपको बता दें कि जिस प्रकार भारत में वास्तु प्रचलित है ठीक उसी प्रकार चीन में भी फेंगशुई का चलन है. फेंगशुई नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है और सकारात्मकता को बढ़ाता है. फेंगशुई में कई ऐसी चीजें बताई गई है जिन्हें घर में रखना शुभ रहता है. ऐसे ही वस्तु है कछुआ. जिसे घर में रखना काफी शुभ माना जाता है.
बाजार में कई धातु के और अलग-अलग प्रकार के कछुए मिलते हैं. हिंदू धर्म में भी कछुए को पवित्र माना जाता है क्योंकि प्राचीन काल में समुद्र मंथन के समय भगवान विष्णु ने कच्छप यानी कछुए का अवतार लिया था.
क्रिस्टल का कछुआ-
अगर आप धन संबंधी समस्याओं को दूर करना चाहते हैं तो क्रिस्टल का कछुआ घर या दुकान में रखें. आप इसे अपने कार्यस्थल पर या तिजोरी में रख सकते हैं.
मिट्टी का कछुआ-
अगर किसी के घर में कोई न कोई सदस्य हैं हमेशा ही बीमार रहता है तो घर में मिट्टी का कछुआ रखना अच्छा माना जाता है उसके स्वास्थ्य में सुधार होता है.
कछुए की पीठ पर हो छोटे बच्चे-
एक ऐसा भी कछुआ बाजार में मिलता है जिसके पीठ पर कछुए के छोटे-छोटे बच्चे भी होते है. ऐसा कछुआ घर में रखने से संतान सुख मिलने की संभावना अधिक हो जाती है.
चांदी का कछुआ-
व्यापार में तरक्की चाहते हैं तो दुकान में चांदी का कछुआ रखना बहुत ही शुभ माना जाता है. ऐसा करने से किसी की बुरी नजर भी दुकान पर नहीं लगती है.
पीतल का कछुआ-
पढ़ाई और नौकरी से जुड़ी परेशानियों को दूर करने के लिए घर में पीतल का कछुआ रखना शुभ माना जाता है.
कछुए का जोड़ा-
घर में सुख शांति बनाए रखने और पति- पत्नी के बीच प्रेम बनाए रखने के लिए कछुए का जोड़ा घर में रखना चाहिए.
नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है अधिक जानकारी के लिए आप योग्य वास्तु विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments