कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है पीपल, जानिए कैसे

कल्याण आयुर्वेद- पीपल का पेड़ लगभग सभी क्षेत्रों में पाया जाता है. यह पेड़ अपने विशाल आकार और घनी छाया के लिए जाना जाता है. पीपल पेड़ की पूजा भी की जाती है. लेकिन क्या आपको पता है कि पीपल का पेड़ सेहत के लिए कितना फायदेमंद होता है.
कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है पीपल, जानिए कैसे
आपको जानकर हैरानी होगी कि पीपल ही एक ऐसा पेड़ है जो ऑक्सीजन का अच्छा स्रोत होने के साथ-साथ टैनिक एसिड, अस्पर्टिक एसिड, फ्लेवोनॉयड्स, एस्ट्रॉयड, विटामिन. मेथियोनिन, ग्लीसीन इत्यादि से भरपूर होता है.
आयुर्वेद में पीपल का इस्तेमाल कई रोगों को दूर करने के लिए किया जाता है. इतना ही नहीं इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है. ऐसे में आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर पीपल के पत्ते सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं. इसका फल भी काफी लाभदायक होता है तो वहीं इसकी छाल का भी इस्तेमाल आयुर्वेद में कई रोगों को दूर करने के लिए किया जाता है.
आपको बता दें कि पीपल के पत्तों में ग्लूकोज, फेनोलिक, मेनोस आदि पोषक तत्व मौजूद होते हैं जबकि इसकी छाल में विटामिन के, टैनिन और फाइटोस्टेरोलीन अच्छी मात्रा में होते हैं. इसमें एंटीऑक्सीडेंट और खनिज पदार्थ भी मौजूद होते हैं. पीपल में इनका संग्रह होने के कारण यह औषधीय पेड़ कहलाता है.
तो चलिए जानते हैं पीपल के फायदों के बारे में-
दांतो के लिए-
पीपल की दातुन करने से दांत मजबूत होते हैं और दांतो में दर्द की समस्या दूर हो जाती है. इसके अलावा 10 ग्राम पीपल की छाल, 5 ग्राम कथा और 2 ग्राम कालीमिर्च को पीसकर मंजन बना लें. इस मंजन के प्रयोग से दातों की सभी तरह की समस्याएं दूर हो जाती है.
त्वचा के लिए-
त्वचा पर होने वाली कई तरह की समस्याएं जैसे दाद, खाज, खुजली, रैशेज और त्वचा इन्फेक्शन को दूर करने के लिए पीपल के पत्ते बहुत कामयाब होती हैं. पीपल के पत्तों का काढ़ा बनाकर पी लें. इससे त्वचा संबंधी सभी समस्याएं दूर हो जाती है.
विष का प्रभाव-
किसी भी जहरीले जीव जंतु के काटने पर पीपल के पत्तों का रस निकालकर प्रभावित हिस्से पर डालें. इसके अलावा उस व्यक्ति को थोड़ी देर बाद इसका रस पिलाएं. इससे विष का असर कम हो जाता है.
पेट की समस्या-
यदि आप पेट दर्द से परेशान रहते हैं तो आपके लिए पीपल काफी मददगार साबित हो सकता है. पेट में गैस, एसिडिटी, कब्ज, पेट दर्द, अल्सर और इन्फेक्शन की समस्या को दूर करने के लिए इस के ताजे पत्तों का रस प्रतिदिन सुबह-शाम पीएं. इसके सेवन से पेट से जुड़ी हर समस्याएं दूर हो जाती है.
सांस संबंधी समस्याएं-
सांस संबंधी किसी भी प्रकार की समस्याओं में पीपल का पेड़ काफी फायदेमंद हो सकता है. पीपल की छाल का अंदरूनी हिस्सा निकालकर सुखा लें. इसके बाद इसे पीसकर पाउडर बना लें और दूध में उबालकर पीएं. इससे सांस से जुड़ी समस्याएं और अस्थमा की समस्या दूर होती है.
हिचकी आने पर-
50 से 100 ग्राम पीपल की छाल का चारकोल बनाकर इसे पानी से बुझा दे. इस पानी के सेवन से हिचकी आनी बंद हो जाती है.
आंखों में दर्द-
पीपल की पत्तियों के दूध को आंखों पर लगाने से आंखों की पीड़ा दूर हो जाती है.
नपुंसकता-
नपुंसकता को दूर करने में भी पीपल काफी मददगार होता है. इसके लिए पीपल के फल को सुखाकर पीसकर पाउडर बना लें. अब आधा से एक चम्मच की मात्रा में दूध के साथ दिन में तीन बार नियमित सेवन करने से कुछ ही दिनों में नपुंसकता की समस्या दूर हो जाती है वीर्य गाढ़ा होता है तथा शरीर बलवान बनता है.
श्वेत प्रदर-
कई महिलाओं को श्वेत प्रदर की समस्या होती है जिसमें योनि मार्ग से पीला गाढ़ा स्राव होते रहता है और इसके कारण महिलाओं में कमजोरी, कमर दर्द जैसी समस्याएं होने लगती है. ऐसे में पीपल का फल सौ ग्राम, पीपल की छाल 100 ग्राम और पीपल के पत्ते 50 ग्राम को अच्छी तरह से सुखाकर पीसकर पाउडर बना लें. अब इस पाउडर को एक चम्मच की मात्रा में दूध के साथ नियमित सेवन करने से कुछ ही दिनों में श्वेत प्रदर यानी सफेद पानी जाना की समस्या दूर हो जाती है.
नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है. किसी भी प्रयोग से पहले आप योग्य डॉक्टर की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments