गर्भधारण करने के लिए हर उपाय करके थक गई है तो एक बार जरूर करें इस चमत्कारी दवा का सेवन, जरुर बनेंगी माँ

कल्याण आयुर्वेद- क्या आप गर्भधारण की इच्छा रखती हैं और इस इच्छा को पूरा करने के लिए आपने बहुत से उपाय अपनाकर थक गई है. लेकिन फिर भी कोई लाभ नहीं हुआ तो आप इस वर्षों पुराना तरीका को अपनाकर एक बार जरूर देखें.
गर्भधारण करने के लिए हर उपाय करके थक गई है तो एक बार जरूर करें इस चमत्कारी दवा का सेवन, जरुर बनेंगी माँ
जी हां हम जिस चमत्कारी दवा के बारे में बात कर रहे हैं वह है शतावरी. शतावरी एक ऐसी जड़ी- बूटी है जिसका प्रयोग सदियों से इस समस्या को दूर करने के लिए किया जाता है. आयुर्वेद के अनुसार शतावरी का सेवन करने से पुरुष और महिला दोनों की फर्टिलिटी क्षमता बढ़ने के साथ-साथ काम उत्तेजना में भी बढ़ोतरी होती है. इसके सेवन से गर्भधारण की संभावना अधिक हो जाती है.
गर्भधारण करने के लिए हर उपाय करके थक गई है तो एक बार जरूर करें इस चमत्कारी दवा का सेवन, जरुर बनेंगी माँ
तो चलिए जानते हैं शतावरी कैसे महिलाओं में फर्टिलिटी के संभावना को बढ़ाती है?
1 .संतुलित करती है हार्मोन असंतुलन-
कई महिलाएं प्रजनन क्षमता की उम्र के दौरान पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम की अवस्था से गुजरती है. जिसके कारण उन्हें हार्मोन असंतुलन की समस्या होती है. शतावरी इन लक्षणों को कम करने हार्मोनल को संतुलित करने और फर्टिलिटी की संभावना को बढ़ाने के लिए काफी मददगार होता है.
2 .सुधारता है ओवुलेशन-
शतावरी में पाए जाने वाले मुख्य घटकों में एक घटक स्‍टेरायडल सैपोनीन (steroidal saponins) होता है यह घटक एस्ट्रोजन को नियंत्रित करने के लिए जाना जाता है. जिससे मासिक धर्म नियमित होते हैं और गर्भधारण की संभावना अधिक हो जाती है.
3 .सर्वाइकल म्यूकस की सीक्रेशन को बनाए बेहतर-
सर्वाइकल म्यूकस का सीक्रेशन कम होने के कारण भी गर्भधारण में परेशानी उत्पन्न होती है. सर्वाइकल म्यूकस गर्भाशय ग्रीवा द्वारा स्रावित होता है और सर्वाइकल म्यूकस और उस पर महिलाओं की रीप्रोडक्टिव ट्रैक्ट में जाकर अंडों के साथ मिलते हैं. शतावरी में म्युसिलेज मेम्ब्रेन होता है यह मेंब्रेन को सुरक्षित रखने में टॉनिक की तरह कार्य करता है.
4 .तनाव को करें कम-
क्या आपको पता है कि तनाव का असर भी आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है. तनाव के कारण ओवुलेशन में समस्या और टिश्यु में सूजन या चोट के कारण प्रजनन प्रणाली पर प्रभाव पड़ता है जिससे फैलोपियन ट्यूब ब्लॉक होने के साथ गर्भाशय फाइब्रॉएड और ओवेरियन सिस्ट जैसी बहुत सी समस्याएं उत्पन्न हो जाती है. इन सब समस्याओं की वजह से गर्भधारण करने में बाधा उत्पन्न होती है. लेकिन शतावरी का सेवन करने से शरीर में व्हाइट ब्लड सेल्स का उत्पादन बढ़ता है. जिससे सूजन कम करने, खून से हानिकारक पदार्थों और अपशिष्ट पदार्थों को अवशोषित करने में मदद मिलती है. जिसके कारण गर्भधारण करने की संभावना अधिक हो जाती है.
जिन महिलाओं को गर्भधारण करने में परेशानी आ रही हो उन्हें 1 दिन में शतावरी का सूखा संयंत्र 4. 5 मिलीग्राम ही लेना चाहिए.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें और स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारियां रोजाना पाने के लिए इस चैनल को अवश्य फॉलो कर लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments