थायराइड को नियंत्रित करने के लिए रामबाण है ये देशी उपाय

कल्याण आयुर्वेद- आज के बदलते समय में गलत खानपान, रहन-सहन में बदलाव आदि के कारण लोगों को कई तरह की गंभीर बीमारियां हो रही है जो एक बार हो जाए तो पूरी जिंदगी साथ नहीं छोड़ता है. उन्हीं बीमारियों में से एक बीमारी है थायराइड. थायराइड की समस्या से बचने के लिए गलत खानपन पर विशेष ध्यान रखना पड़ता है.
थायराइड को नियंत्रित करने के लिए रामबाण है ये देशी उपाय
थायराइड जिन्हें एक बार हो जाता है उन्हें पूरी जिंदगी दवाओं का सेवन करना पड़ता है जो लगातार सेवन करने से दूसरी बीमारियों को निमंत्रण देता है. लेकिन यदि घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल किया जाए तो यह बिना साइड इफेक्ट थायराइड की समस्या को नियंत्रण में रखने में काफी मददगार होता है.
थायराइड पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा देखी जाती है.
थायराइड के लक्षण-
संभवत कुछ लोगों को यह पता नहीं होगी थायराइड कब हुआ है. लेकिन यदि वे इसके लक्षणों पर ध्यान देते हैं तो शायद वे समय रहते इसका इलाज शुरू करा पाते हैं. यदि किसी व्यक्ति को यह लक्षण नजर आते हैं तो उन्हें सतर्क हो जाना चाहिए. क्योंकि यह गले की समस्या का संकेत हो सकते हैं.
वजन का बढ़ना या कम होना-
यह थायराइड का प्रमुख लक्षण है जिसमें व्यक्ति के वजन में अचानक से बदलाव आ जाती है. इससे गले की बीमारी में कुछ लोगों का वजन बढ़ जाता है तो वहीं कुछ लोगों का वजन कम हो जाता है.
गले में सूजन होना-
अक्सर देखा गया है कि थायराइड होने पर कुछ लोगों के गले में सूजन हो जाती है. ऐसा मुख्य रूप से घेंघा रोग का लक्षण हो सकता है और इस स्थिति में मेडिकल सहायता की आवश्यकता होती है.
हृदय गति में बदलाव-
यदि किसी व्यक्ति की हृदय गति में बदलाव हो जाता है और वह सामान्य से तेज चलने लगती है तो उन्हें थायराइड की जांच करानी चाहिए. ह्रदय गति में बदलाव थायराइड होने के संकेत हो सकते हैं.
मूड स्विंग का होना-
थायराइड का अन्य लक्षण मूड स्विंग भी होता है. ऐसा देखा गया है कि इससे पीड़ित लोग कभी खुशी तो कभी दुखी हो जाते हैं.
बालों का झड़ना-
ऐसा मुख्य रूप से थायराइड होने पर महिलाओं के बाल तेजी से झड़ने लगते हैं. हालांकि इसका इलाज हेयर ट्रांसप्लांट के द्वारा किया जा सकता है.
मासिक धर्म का अनियमित होना-
महिलाओं में थायराइड की वजह से मासिक धर्म में अनियमितता हो जाती है. कई महिलाओं को थायराइड के कारण गर्भधारण करने में भी परेशानी होती है.
थायराइड को नियंत्रित करने के देशी उपाय-
* अदरक में पोटैशियम, मैग्निशियम काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है जो थायराइड की समस्या को दूर करने में मददगार होता है. अदरक के अंदर कई ऐसे गुण होते हैं जो थायराइड को रोकने के लिए काफी ज्यादा मददगार होते हैं.
* थायराइड की समस्या को दूर करने के लिए दूध और दही का सेवन करना चाहिए. दूध और दही में काफी मात्रा में कैल्शियम, मिनरल्स और विटामिंस पाए जाते हैं जो थायराइड की समस्या को दूर रखते हैं.
* मुलेठी का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए बेहतर माना जाता है. मुलेठी का सेवन करने से थायराइड को बढ़ने से रोका जा सकता है. मुलेठी कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकती है. मुलेठी का सेवन करने से थकान की समस्या भी दूर होती है.
* थायराइड की बीमारी से छुटकारा पाने के लिए आपको फाइबर से भरपूर भोजन करना चाहिए. इसके अलावा थायराइड की शिकायत होने पर शारीरिक गतिविधियां करना सबसे ज्यादा जरूरी हो जाता है. इसके लिए आपको प्रतिदिन मॉर्निंग वॉक और इवनिंग वॉक जरूर करनी चाहिए.

Post a Comment

0 Comments