जानें- महिलाओं को होने वाले रोग और घरेलू उपाय

कल्याण आयुर्वेद- कई रोग ऐसे होते हैं जो महिला व पुरुष दोनों में ही होते हैं लेकिन कुछ ऐसे भी रोग हैं जो सिर्फ महिलाओं को ही होते हैं. लेकिन अक्सर महिलाएं संकोचवश इन बीमारियों के बारे में किसी से नहीं बताते हैं और उनकी यह बीमारियां दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जाती है. जिसके फलस्वरूप उसके परिणाम गंभीर हो जाते हैं.
जानें- महिलाओं को होने वाले रोग और घरेलू उपाय
इन सभी बातों को ध्यान में रखकर ही आज हम महिलाओं के रोगों तथा उनके उपचार के लिए कुछ घरेलू उपाय बताने जा रहे हैं. इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि महिलाएं अपनी समस्या का हल अपने घर में ही आसानी से कर सकती है तथा अपने पैसे, स्वास्थ्य और समय को बचा सकती हैं.
चलिए जानते हैं उन बीमारियों के बारे में-
1 .मासिक धर्म का बंद होना-
कई बार ऐसा होता है कि अचानक ही बिना गर्भ धारण किए उनके प्रति महीने आने वाले मासिक धर्म बंद हो जाते हैं और वे परेशान हो जाती हैं. आपको बता दें कि इसके समाधान के लिए आपको गुड़हल के फूलों को कांजी के तरह पीस लें तथा थोड़ी-थोड़ी मात्रा में इसका सेवन करने से बंद माहवारी खुल जाती है. इसके अलावा दुसरे प्रयोग की बात करें तो आप अश्वगंधा का चूर्ण बना लें तथा इसकी 6 ग्राम की मात्रा में उतनी ही मात्रा में चीनी या मिश्री मिलाकर ताजा ठंडे पानी के साथ सेवन करें. इस प्रयोग से भी बंद माहवारी खुल जाती है.
2 .माहवारी में अधिक रक्त स्राव का होना-
कई बार महिलाओं को मासिक धर्म के समय रक्त स्राव अधिक होने की समस्या हो जाती है. इस समस्या को दूर करने के लिए गाय के एक पाव दूध में केले के पत्ते का एक छटाक रस मिलाकर 1 सप्ताह तक पीना चाहिए. इससे मासिक धर्म के समय अधिक रक्त स्राव की समस्या दूर होती है. इसके अलावा आप लोध्र का 2 ग्राम चूर्ण तथा 2 ग्राम पिसी हुई मिश्री लें अब इन दोनों को आप एक गिलास ठंडे पानी में मिलाकर पी लें. ऐसा दिन में दो बार करें. इस उपाय से भी महावारी के दौरान अधिक रक्त स्राव की समस्या दूर हो जाती है.
3 .श्वेत प्रदर-
कई महिलाओं को श्वेत प्रदर यानी पानी जाने की समस्या हो जाती है. जिसके कारण उनका स्वास्थ्य बिगड़ जाता है साथ ही कमर व पेडू में दर्द होने की समस्या रहती है. इसके लिए 3 ग्राम आंवले के चूर्ण में 6 ग्राम अदरक का चूर्ण मिलाकर लगातार 30 दिनों तक सेवन करना चाहिए. इसके नियमित प्रयोग करने से श्वेत प्रदर की समस्या में काफी लाभ होता है. इस समस्या का दूसरा प्रयोग यह है कि आप अशोक के पेड़ की छाल के चूर्ण के साथ बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर सुबह-शाम गाय के दूध के साथ सेवन करें. इससे काफी लाभ होता है. इस प्रकार से वे महिलाएं जिनको इनमें से कोई भी समस्या है वे अपनी इन समस्याओं को दूर कर सकती हैं.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments