मधुमेह रोगियों के लिए वरदान है करेले का जूस, जानें कब और कैसे पीना चाहिए

कल्याण आयुर्वेद- मधुमेह रोगियों के लिए करेले का जूस वरदान होता है क्योंकि करेला के पौधे में इंसुलिन और अन्य मधुमेह विरोधी पदार्थों की उच्च मात्रा रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मददगार होती है.
मधुमेह रोगियों के लिए वरदान है करेले का जूस, जानें कब और कैसे पीना चाहिए
करेले के जूस को मधुमेह रोगियों को सुबह खाली पेट पीने की सलाह दिया जाता है. इससे रक्तगत शर्करा में अनावश्यक वृद्धि से बचाव होता है. इसके अलावा करेले में पोटेशियम का भी उच्च मात्रा होने के कारण उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए भी फायदेमंद होता है.
एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन ए और विटामिन सी आपको चमकती त्वचा, स्वस्थ रोशनी और बेहतर प्रतिरक्षा देने का भी काम करते हैं. कर्ब्स में कम होने के कारण वजन घटाने, रक्तचाप, त्वचा पर निखार लाने के लिए करेले का जूस पीना फायदेमंद होता है.
कैसे बनाएं करेले का जूस-
करेला और आधा कप पानी को मिक्सर में डालें और इसे ग्रैंड करें. अब इस मिश्रण को किसी कपड़े से छानकर जूस को अलग करें. अब इसमें नींबू का रस और स्वादानुसार नमक डालें और इसे प्रतिदिन सुबह खाली पेट पिएं.

Post a Comment

0 Comments