बाँझपन से परेशान महिलाएं करें इन फलों और पतियों का सेवन, जरूर बनेंगी मां

कल्याण आयुर्वेद- शादी के बाद हर महिला की चाहत होती है कि सुंदर व स्वस्थ बच्चे को जन्म देकर मां बने. लेकिन कई बार शारीरिक समस्याओं के कारण इस सुख से वंचित रह जाती है. बांझपन और प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए वह कई तरह की दवाओं का सेवन करती है. लेकिन उनकी समस्या को दूर करने के लिए घरेलू नुस्खे भी इस्तेमाल किए जा सकते हैं और लाभ प्राप्त किया जा सकता है. इतना ही नहीं घरेलू नुस्खे के सेवन से साइड इफेक्ट का भी खतरा नहीं रहता है.
बाँझपन से परेशान महिलाएं करें इन फलों और पतियों का सेवन, जरूर बनेंगी मां
चलिए जानते हैं उन चीजों के बारे में-
1 .हमारे देश यानी भारत में अश्वगंधा नाम की जड़ काफी मात्रा में पाई जाती है. यह जड़ महिला और पुरुष दोनों की ही प्रजनन क्षमता को बेहतर बनाने में मददगार होता है. इसका सेवन करने से अंतः स्रावी ग्रंथियां का काम सुचारू रूप से चलने लगता है.
2 .रसभरी नाम के फल की पत्तियां भी महिलाओं में बांझपन को कम करती है. साथ ही अव्यवस्थित हार्मोन को भी सामान्य करती है.
3 .जड़ के रूप में पाई जाने वाली बिच्छू बूटी भी ऐसी स्थिति में काफी लाभदायक है. इस जड़ का इस्तेमाल चाय के रूप में किया जाता है जो महिलाएं गर्भवती होना चाहती हैं उन्हें दिन में दो-तीन बार इसको पीने की सलाह दी जाती है.
4 .भारत में मिलने वाली तिनपत्तिया घास भी प्रजनन क्षमता को बेहतर बनाने का काम करती है. इसका प्रयोग महिलाओं में बांझपन के इलाज के लिए किया जाता है. लेकिन जिन्हें ब्रेस्ट कैंसर की समस्या है उन्हें इस जड़ का प्रयोग नहीं करना चाहिए.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments