बालों की हर समस्या को दूर कर नए बाल उगाता है यह तेल, जानें बनाने और प्रयोग करने की विधि

कल्याण आयुर्वेद- प्रतिदिन बालों का झड़ना कोई बीमारी नहीं है लेकिन 50 से 100 से ज्यादा बाल न झड़े. त्वचा विशेषज्ञों का मानना है कि यह नॉर्मल बात है क्योंकि पुराने बाल झड़कर नए बाल उगते हैं. लेकिन कभी-कभी बीमार होने या बाहर का प्रदूषण, हिट, केमिकल चीजों के प्रभाव जैसे अनहेल्दी कारणों से बाल झड़ने लगते हैं और लगातार बाल झड़ते रहने के कारण गंजापन की समस्या हो सकती है.
बालों की हर समस्या को दूर कर नए बाल उगाता है यह तेल, जानें बनाने और प्रयोग करने की विधि
यदि आप भी इस समस्या से परेशान हैं और आप चाहते हैं कि आप गंजेपन के शिकार ना हो और आपके बाल काले, घने व मुलायम बने रहे तो आज हम आपको एक ऐसे तेल के बारे में बताने जा रहे हैं जो बालों से जुड़ी सभी समस्याओं को दूर कर नए बाल उगाने में आपकी मदद करेगा.
जी हां, हम जिस तेल के बारे में बात कर रहे हैं वह है भृंगराज का तेल. भृंगराज एक प्रकार का हर्ब है जिसे आयुर्वेद में रसायन माना जाता है जो बढ़ती उम्र के लक्षणों को देर से आने और नवजीवन प्रदान करने में मददगार होता है. इन सब में सबसे अच्छी बात यह है कि इस तेल को लगाने से बालों का झड़ना तो कम होता ही है साथ ही नए बाल भी उगते हैं.
आपको बता दें कि भृंगराज तेल वस्तुतः भृंगराज हर्ब का सार तत्व या निचोड़ के साथ नारियल या तिल के तेल का समन्वय होता है. इस तेल को लगाने से-
* बालों का ग्रोथ बढ़ता है और हेल्थी बनते हैं-
बालों की हर समस्या को दूर कर नए बाल उगाता है यह तेल, जानें बनाने और प्रयोग करने की विधि
आयुर्वेद के अनुसार बाल क्यों झड़ते हैं? जब शरीर में पित्त की अधिकता होती है और भृंगराज इनको शांत करके बालों को बढ़ने और उगने में मदद करते हैं. इस तेल को लगाने से स्कैल्प में रक्त का संचार अच्छी तरह से हो पाता है. भृंगराज तेल के साथ आंवला और शिकाकाई को मिलाने से वह और भी गुणकारी हो जाता है.
* रूसी और उम्र से पहले बालों के सफेद होने को रोकता है-
प्रतिदिन भृंगराज तेल से मसाज करने पर स्कैल्प में किसी भी प्रकार का इन्फेक्शन नहीं होता है. फलस्वरुप रूसी नहीं हो पाता है और बालों का प्राकृतिक रंग बना रहता है.
बालों की हर समस्या को दूर कर नए बाल उगाता है यह तेल, जानें बनाने और प्रयोग करने की विधि
* करता है स्ट्रेस से फ्री-
आयुर्वेद के अनुसार शरीर में पित्त बढ़ने के कारण भी तनाव होता है. भृंगराज इस मामले में बहुत काम आता है. जिन लोगों के बाल तनाव के कारण झड़ रहे हैं उनके लिए यह तेल प्रभाव कारी रूप से काम करता है.
भृंगराज तेल का कैसे करें प्रयोग?
वैसे तो यह तेल बाजार में बने बनाए मिलते हैं. लेकिन आप भृंगराज पाउडर को खरीद कर अपने पसंदीदा तेल में मिलाकर इससे बालों का मसाज कर सकते हैं. तेल को लगाकर कुछ घंटों के बाद माइल्ड शैंपू या शिकाकाई, रीठा पाउडर के मिश्रण से भी धो सकते हैं.
भृंगराज तेल प्राकृतिक प्रोडक्ट है इसलिए इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है. लेकिन इस तेल का प्रभाव ठंडा होने के कारण कभी भी रातभर लगाकर नहीं रखना चाहिए. सर्दी के दिनों में वे लोग इस तेल का इस्तेमाल करने से बचें जिन्हें सर्दी- जुकाम की समस्या है.
घर पर कैसे बनाएं भृंगराज तेल?
यदि आप चाहते हैं कि घर पर ही भृंगराज तेल बनाकर इस्तेमाल करें तो आप भृंगराज के पत्तों को लेकर उसका रस निचोड़ लें. अब रस के बराबर अपने पसंदीदा तेल जैसे- तिल तेल, सरसों तेल या नारियल तेल लेकर किसी बाउल में रस को तेल के साथ मिलाकर गर्म करें. जब यह अच्छी तरह से रस जलकर सिर्फ तेल रह जाए तो छानकर किसी सीसी में सुरक्षित रख लें. अब इसका प्रयोग प्रतिदिन नियमित करें. इसके प्रयोग से बालों से जुड़ी हर समस्याएं दूर हो जाती है और नए बाल उगने लगते हैं.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments