हल्दी वाला दूध पीना कई बीमारियों का है अचूक इलाज, लेकिन ये समस्या हो तो भूलकर भी न पिए

कल्याण आयुर्वेद- हल्दी वाला दूध पीना कई बीमारियों के लिए अचूक इलाज है. यदि कोई बीमारी न हो तो भी इसका सेवन करना नुकसानदायक नहीं होता है क्योंकि हल्दी वाला दूध पीने से इम्यूनिटी मजबूत रहती है. इसलिए डॉक्टर भी हल्दी वाला दूध पीने की सलाह देते हैं. इसे सुपर ड्रिंक माना जाता है.
हल्दी वाला दूध पीना कई बीमारियों का है अचूक इलाज, लेकिन ये समस्या हो तो भूलकर भी न पिए
दूध कई विटामिन से भरपूर होता है और वही हल्दी में मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट हमारी न सिर्फ इम्यूनिटी बढ़ाती है बल्कि हमें कई तरह के संक्रमण से बचाती है. लेकिन कई बार ऐसी परिस्थितियां होती है जिसमें हल्दी वाला दूध पीना फायदे की जगह नुकसान करने लगता है. यदि आप में भी ऐसी कोई समस्या हो तो हल्दी वाले दूध का सेवन आपको भूलकर भी नहीं करना चाहिए.
चलिए जानते हैं हल्दी वाला दूध पिने के फायदे-
* हल्दी दूध सिर दर्द को दूर करने में काफी मददगार होता , चाहे यह साइनस के कारण हुआ हो या फिर अत्यधिक तनाव के कारण. एक कप हल्दी और दूध काफी फायदेमंद साबित होता है क्योंकि हल्दी दूध खून को पतला कर देता है, जिससे इसका बहाव सुधर जाता है इसलिए यह माइग्रेन और अत्यधिक सिरदर्द की समस्या को दूर कर देता है.
हल्दी वाला दूध पीना कई बीमारियों का है अचूक इलाज, लेकिन ये समस्या हो तो भूलकर भी न पिए
* एंटीवायरल गुणों के कारण हल्दी दूध कई प्रकार की बीमारियों के खिलाफ लड़ने में उपयोगी होता है. यह जुकाम, खांसी आदि बीमारियों में लाभदायक होता है. यदि आप मौसम बदलने पर जल्दी बीमारियों के घेरे में आ जाते हैं तो आप हल्दी दूध पीने की आदत बना लें. इससे आपको काफी लाभ होगा और कई बीमारियों से छुटकारा मिलेगा.
* गठिया के दर्द से परेशान लोगों के लिए हल्दी वाला दूध काफी लाभदायक होता है. इससे दर्द से आराम मिलता है. हल्दी दूध और दूसरी आयुर्वेदिक चीजों के उपयोग के लिए लोग जागरूक हुए हैं इसमें मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण गठिया के दर्द से निवारण पाने में लाभदायक होता है.
* हल्दी को विषैले पदार्थों से लड़ने और उनसे निजात पाने में अत्यंत उपयोगी पाया गया है. खाने से और कई तरह के पेय का सेवन करने से हमारे शरीर में और खून में अनेक प्रकार की विषैली चीजें आ जाती है. हल्दी का सेवन इससे निजात दिलाने में फायदेमंद साबित होता है. हमारे खून में मौजूद गंदगी कारण हमें अनेक प्रकार की त्वचा से जुड़ी समस्याएं आदि से जुझनी पड़ती है. हल्दी में इस गंदगी को साफ करके खून को शुद्ध बनाने का गुण होता है. जिससे कई समस्याएं दूर हो जाती है क्योंकि यदि हमारा खून साफ रहता है तो हमारा स्वास्थ्य स्वयं ही स्वस्थ हो जाता है.
* पाचन क्रिया के लिए भी हल्दी वाला दूध काफी लाभदायक होता है. इसलिए इसे भारतीय रसोई के महत्वपूर्ण मसालों की श्रेणी में रखा गया है. इससे पेट में गैस की समस्या, पाचन में गड़बड़, पेट में सूजन आदि की समस्याएं दूर हो जाती है. क्योंकि यह शरीर में बाइल का बहाव बढ़ा देता है जिससे पाचन की प्रक्रिया सुचारू हो जाती है. इससे भूख ना लगने की परेशानी भी दूर हो जाती है और पाचन भी सही रहता है. ऐसी जगह पर जहां पेट में संक्रमण पैदा करने वाले कीड़े अत्यधिक प्रचलित होते हैं वहां प्रतिदिन एक कप हल्दी का दूध पीने से काफी लाभ होता है.
* हल्दी फाइटोएस्ट्रोजन के रूप में भी काम करता है और महिलाओं की प्रजनन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है. यह उन महिलाओं में प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है जिनको हार्मोनल अपर्याप्तता के कारण गर्भधारण करने में परेशानी होती . जिन महिलाओं को माहवारी के दौरान अत्यधिक दर्द होती है, उनको हल्दी का दूध पीना काफी लाभदायक होता है क्योंकि इस दर्द से राहत मिलता है. हल्दी दूध पीना मेनोपॉज के बाद के लक्षणों से भी राहत देता है. हालांकि हल्दी दर्द से संबंधित समस्याओं को कम करता है लेकिन यह एक गर्भाशय उत्तेजक है जो मासिक धर्म के निर्वहन के मुक्त प्रवाह को बढ़ावा देता है. इस कारण से गर्भावस्था के दौरान चिकित्सा की एक खुराक लेते समय हल्दी से बचना चाहिए.
इन्हें नहीं करना चाहिए हल्दी दूध का सेवन-
1 .Cough की समस्या हो-
अगर आपके गले और सीने में कफ जमा है और बाहर नहीं निकल पा रहा है तो रात को हल्दी वाला दूध ना पिए क्योंकि ऐसा करने से कफ अंदर ही रह जाता है और छाती में जमा हो जाता है.
2 .सांस लेने में परेशानी-
यदि सांस लेने में परेशानी हो रही है और सांस लेते समय सीने में दर्द हो रहा है तब भी रात को हल्दी वाला दूध नहीं पीना चाहिए. हल्दी हमारी सांस प्रणाली को सक्रिय कर देती है जिससे समस्या और अधिक हो सकती है. इसलिए ऐसे में आप हल्दी वाला दूध से दूर रहें.
3 .पित्ताशय में दिक्कत-
यदि आपके पित्ताशय में कोई दिक्कत हो तो हल्दी वाले दूध से दूर रहिए, क्योंकि यह आपकी समस्या को और बढ़ा सकती है.
4 .ब्लीडिंग की समस्या-
यदि शरीर के किसी भी हिस्से से यानी योनि मार्ग, बवासीर या नाक से ब्लीडिंग की समस्या हो रही है तो आपको हल्दी वाले दूध के सेवन से बचना चाहिए.
5 .डायबिटीज के मरीज-
हल्दी वाला दूध पीना कई बीमारियों का है अचूक इलाज, लेकिन ये समस्या हो तो भूलकर भी न पिए
यदि आप डायबिटीज के मरीज हैं तो आपको हल्दी वाला दूध पीने से बचना चाहिए, क्योंकि हल्दी में एक रासायनिक पदार्थ करक्यूमिन होता है जो ब्लड शुगर को प्रभावित करता है.
6 .आयरन की कमी-
यदि आपके शरीर में आयरन की कमी हो तो भी हल्दी वाला दूध पीने से बचें. क्योंकि अधिक हल्दी के सेवन से आयरन का अवशोषण बढ़ जाता है.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments