महिलाओं के ये हैं भाग्यशाली होने के शारीरिक लक्षण, देखकर आप भी समझ जाएंगे

कल्याण आयुर्वेद- सामुद्रिक शास्त्र में महिलाओं के शारीरिक लक्षणों से उनके भाग्यशाली होने बारे में बताया गया है. सामुद्रिक शास्त्र में कई ऐसे लक्षण बताए गए हैं जिससे महिलाओं के अच्छे और बुरे स्वभाव की जानकारी होती है.
महिलाओं के ये हैं भाग्यशाली होने के शारीरिक लक्षण, देखकर आप भी समझ जाएंगे
तो चलिए जानते हैं महिलाओं के उन शारीरिक लक्षणों के बारे में जो बताते हैं कि वे भाग्यशाली हैं.
गर्दन-
सामुद्रिक शास्त्र में लंबी गर्दन वाली महिलाओं को मंगलकारी बताया गया है. जिन महिलाओं की गर्दन लंबी होती है वह महिलाएं ऐश्वर्यशाली होती है. उन महिलाओं के पास संपूर्ण वैभव होती है. ऐसी महिलाएं पति को कभी भी पैसे की कमी नहीं होने देती है.
नाभि-
अगर किसी महिला की नाभि के आसपास या ठीक निचे मस्सा या तिल हो तो वह महिला अपने परिवार के लिए बहुत ही भाग्यशाली होती है. यह उसके सुखी और संपन्न जीवन का संकेत होता है.
पैर की अंगुली-
अगर किसी कन्या के पैर की छोटी अंगुली यानी कि कनिष्का भूमि को स्पर्श करती हो तो वह अशुभ होती है. सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार जिन कन्याओं के पैरों के तलवे लालिमा युक्त और चिकने होते हैं यह कन्याएं लक्ष्मी समान होती है.
ललाट-
जिन महिलाओं का ललाट स्वतला और सिंदूर लगाने वाला स्थान कुछ उन्नत होता है यह महिलाएं सौभाग्यशाली होती हैं. उनके सुहाग की उम्र लंबी होती है. जिन कन्याओं का चेहरा अपने पिता के चेहरे से मिलता है. वह कन्या बहुत ही भाग्यशाली होती हैं. इन्हें जीवन में हर सुख मिलता है. वही सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार विपरीत होता है किसी पुरुष का चेहरा उसके माता के चेहरे से मिलता है तो वह पुरुष भी भाग्यशाली माना जाता है.
यह जानकारी अच्छी लगी थी लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments