प्रेगनेंसी में सांस फूलने पर रखें इन बातों का ध्यान

कल्याण आयुर्वेद- प्रेगनेंसी में वैसे तो सांस फूलना बहुत ही आम बात होती है, लेकिन फिर भी कुछ जरूरी बातों का ध्यान आपको जरूर रखना चाहिए. असल में इस अवस्था में आपके शिशु का आकार बढ़ता है, जिससे आपके शरीर के सभी अंगों पर दबाव पड़ता है. इस वजह से फेफड़े सांस भरने पर पूरी तरह से फ़ैल नहीं पाती है लेकिन आपके शिशु को इस अवस्था में कोई समस्या नहीं आती है. इस अवस्था में यदि आप सीढ़ियां भी चढ़ती हैं तो आपको ऐसा लगता है कि आप काफी दूर से दौड़ लगाकर आ रही हैं. इस प्रकार की समस्या से आपको प्रसव के 2 या 3 सप्ताह पहले तक छुटकारा मिल जाता है. इस समय तक आप झुककर न बैठे तथा जरूरी हो तो 2 से 3 तकिया का सहारा भी ले सकती हैं.
प्रेगनेंसी में सांस फूलने पर रखें इन बातों का ध्यान
इन बातों का रखें ध्यान-
* आपको बता दें कि कई बार जब आपके शरीर में आयरन की कमी हो जाती है तो आपको इस प्रकार की समस्या हो जाती है. कई बार आपको लगातार सांस लेने में तकलीफ होने लगती है. ऐसी स्थिति में आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें. इसके अलावा कई बार यही देखने को मिलता है कि गर्भवती महिला के होंठ- अंगुलियां नीली सी पड़ जाती है, छाती में हल्का दर्द होने लगता है, यदि इस प्रकार के संकेत किसी भी प्रेग्नेंट महिला को दिखाई दे तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए बल्कि डॉक्टर से जल्द ही सलाह लेनी चाहिए.
प्रेगनेंसी में सांस फूलने पर रखें इन बातों का ध्यान
* आपको अपने डॉक्टर का चुनाव करने में भी विशेष ध्यान रखना चाहिए. आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि यदि आपको आधी रात को डॉक्टर के पास जाने की जरूरत पड़ती है तो वह आपके लिए उपलब्ध हो सके. इसके लिए आप अपने दोस्तों या डॉक्टर से वर्क सेंटर या अस्पताल के चुनाव में सलाह लें, डॉक्टर का चुनाव करते समय इस बात का पता लगाएं कि वह हर मौके पर आपको मिल जाएंगे या कुछ विशेष मौके पर ही मिलेंगे. इस बात का भी आप पता लगाएं कि जिस अस्पताल में आप जा रहे हैं वह प्रमाणित है या नहीं? इन बातों का ध्यान रखें प्रेग्नेंट महिला रखती है तो उसे अपने लिए एक अच्छा अस्पताल चुनने तथा अपने स्वास्थ्य को उत्तम रखने में कोई समस्या नहीं होती है.
प्रेगनेंसी में सांस फूलने पर रखें इन बातों का ध्यान
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments