न कोई बीमारी और न ही कोई तनाव फिर भी रात में को नहीं आती नींद तो ये है कारण

कल्याण आयुर्वेद- आजकल की बदलती लाइफ स्टाइल में हर किसी की जिंदगी भागदौड़ भरी हो गई है. ऐसे में थकान का होना आम बात है और रात को बिस्तर पर गिरते ही नींद आ जाती है.
न कोई बीमारी और न ही कोई तनाव फिर भी रात में को नहीं आती नींद तो ये है कारण
लेकिन कई लोगों की शिकायत होती है कि नींद नहीं आती है. कुछ लोग तो इसके लिए नींद की गोली तक का सेवन करते हैं. कई बार नींद से जुड़ी कोई समस्या न होने के कारण भी नींद प्रभावित हो जाती है. लेकिन आपको इसके पीछे के कारण जानकर हैरानी हो सकती है जो आपकी खुद की गलतियां है.
विशेषज्ञों के मुताबिक रात को हमेशा आधा पेट भोजन ही करना चाहिए. इससे शरीर हल्का रहता है और नींद भी भरपूर आती है. यदि आप रात को डिनर के बाद भी जंग फूड जैसी कई और चीजें खा लेते हैं तो जान लीजिए यही एकमात्र कारण है जो कि आपकी नींद को प्रभावित कर रही है.
तो आज हम आपको आज ऐसे चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं. जिसके कारण न तो कोई तनाव और न ही कोई बीमारी होने पर भी आपकी नींद को प्रभावित कर सकती है.
* सोने से पहले अगर आप मीठा खाएंगे तो यह आपकी नींद को प्रभावित कर सकता है. मीठे में काफी मात्रा में कैलोरी होता है और साथ ही फैट भी होता है. मीठा कुछ ही देर में आपके खून में इंसुलिन की मात्रा को बढ़ा देता है. जिससे आप एक्टिव महसूस करने लगते हैं.
* अगर आप ग्रीन टी पीना पसंद करते हैं तो यह एक अच्छी बात है. लेकिन इसे पीने का सही समय का पता होना बहुत आवश्यक है. रात को सोने से पहले ग्रीन टी का सेवन करना अच्छा नहीं होता है. इससे ग्रीन टी में मौजूद कैफीन आपकी नींद को प्रभावित कर सकती है.
* रात के समय बहुत स्पाइसी खाना भी सही नहीं है. मसालेदार खाना आपके शरीर के तापमान को बढ़ा देता है जिसके वजह से आप बेचैनी महसूस करते हैं. बहुत अधिक मसालेदार खाना खाने से जलन और गैस की समस्या हो जाती है जो आपकी नींद में खलल डालती है.
* रात के समय जंक फूड खाकर चैन की नींद सो पाना मुश्किल है. फ्रीज में पिज़्ज़ा का थोड़ा सा हिसाब बचा हुआ रखा है तो आपका हाथ फ्रिज की तरफ जरूर बढ़ सकता है. लेकिन सोने से पहले पीजा खाने से न केवल आपका फैट बढ़ेगा बल्कि हार्टबर्न जैसी समस्याएं भी हो सकती है. जंक फूड में सैचुरेटेड फैट होता है. जिसे पचाने में काफी समय लगता है.
* सोने से पहले चिकन या प्रोटीन वाले आहार खाने से बचना चाहिए. हमें यह जान लेना चाहिए कि नींद में हमारे शरीर की पाचन क्षमता 50 फ़ीसदी कम होती है और प्रोटीन को पचा पाने में शरीर काफी समय लेता है. इसलिए अगर आप सोने से पहले प्रोटीन लेंगे तो शरीर का ध्यान सोने की बजाय प्रोटीन को पचाने पर होगा.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments