डायबिटीज के मरीज प्रतिदिन करें इन पांच तरह के आटों से बनी रोटियों का सेवन, नियंत्रित रहेगा ब्लड शुगर लेवल

कल्याण आयुर्वेद- आजकल की बदलती लाइफ स्टाइल में डायबिटीज एक आम बीमारी होती जा रही है. जिससे काफी लोग ग्रसित हो रहे हैं.
डायबिटीज के मरीज प्रतिदिन करें इन पांच तरह के आटों से बनी रोटियों का सेवन, नियंत्रित रहेगा ब्लड शुगर लेवल
आपको बता दें कि शरीर में जब इंसुलिन हार्मोन का स्राव कम होता है तो इससे डायबिटीज रोग होता है. डायबिटीज को होने के कई कारण हो सकते हैं. यह अनुवांशिक, उम्र बढ़ने पर या मोटापे के कारण होता है. इस रोग में व्यक्ति को परहेज करना जरूरी होता है. डायबिटीज के कारण है या तो अग्नाशय पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है या शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन को ठीक से जवाब नहीं करती.
डायबिटीज के मरीजों को आपने खाने पीने का ख्याल रखने की सलाह दी जाती है. ऐसे में डायबिटीज में क्या खाना और क्या नहीं खाना चाहिए इसके चुनाव करना काफी मुश्किल सा होता है. ऐसे में डायबिटीज मरीजों को सबसे ज्यादा दिक्कत सही आटे का चुनाव करने में आती है. डायबिटीज के मरीजों को ऐसे आटे की रोटी का सेवन करना चाहिए जो उनका ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित कर सके.
ऐसे में यह जानना आवश्यक है कि डायबिटीज में कौन सा आटा की रोटी सेवन करना अच्छा होता है. डायबिटीज रोगियों को अपनी डाइट में प्रोटीन और फाइबर के अलावा अन्य पोषक तत्वों को शामिल करने की सलाह दी जाती है.
ऐसे में आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताने जा रहे हैं कि डायबिटीज के मरीजों को कौन सा आटे का रोटी खाना चाहिए. जो उनके सेहत के लिए लाभदायक साबित हो सकता है.
चलिए जानते हैं ऑटो के बारे में-
1 .जौ का आटा-
डायबिटीज के मरीज प्रतिदिन करें इन पांच तरह के आटों से बनी रोटियों का सेवन, नियंत्रित रहेगा ब्लड शुगर लेवल
जौ की गिनती सबसे पौष्टिक खाद्य पदार्थों में की जाती है. यह मानसिक और शारीरिक विकास के लिए सबसे जरूरी तत्व फाइबर, विटामिन सी और विटामिन ए आदि से भरपूर होता है. डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारी की रोकथाम के लिए जौ का पानी पीने के लिए हर कोई सलाह देते हैं. डायबिटीज एक चिकित्सकीय स्थिति है. जिसमें शरीर पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता है जौ की रोटी खाना आपकी मदद कर सकता है.
2 .कुट्टू का आटा-
डायबिटीज के मरीज प्रतिदिन करें इन पांच तरह के आटों से बनी रोटियों का सेवन, नियंत्रित रहेगा ब्लड शुगर लेवल
कुट्टू हमें ब्लड प्रेशर डायबिटीज, अस्थमा जैसी गंभीर बीमारियों से बचाने में बेहद लाभदायक होता है. डायबिटीज में कुट्टू का आटा खाना काफी लाभदायक होता है क्योंकि इसके सेवन से शरीर का इंसुलिन स्तर सामान्य रहता है. जिससे शुगर लेवल नियंत्रित रहता है.
3 .रागी का आटा-
डायबिटीज के मरीज प्रतिदिन करें इन पांच तरह के आटों से बनी रोटियों का सेवन, नियंत्रित रहेगा ब्लड शुगर लेवल
रागी के आटे की रोटी खाने से शरीर में आसानी कैल्शियम, प्रोटीन, ट्रिप्टोफैन, आयरन, मिथियोनिन, लेसीथीन इत्यादि महत्वपूर्ण स्वास्थ्यवर्धक तत्वों की पूर्ति हो जाती है. रागी फाइबर से भरपूर डायबिटीज की समस्या में काफी प्रभाव कारी हो सकता है. इस आटे में न सिर्फ आपका पाचन तंत्र मजबूत हो सकता है बल्कि यह ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने में कारगर साबित हो सकती है.
4 .राजगिरा का आटा-
डायबिटीज के मरीज प्रतिदिन करें इन पांच तरह के आटों से बनी रोटियों का सेवन, नियंत्रित रहेगा ब्लड शुगर लेवल
इस के आटे का सेवन डायबिटीज से बचे रहने के लिए भी किया जा सकता है. एक वैज्ञानिक अध्ययन में पता चला है कि राजगिरा के तेल का सप्लीमेंट एंटी ऑक्सीडेंट थेरेपी के रूप में काम कर सकता है जो हाइपोग्लाइसीमिया को ठीक करने और डायबिटीज के जोखिम को रोकने में फायदेमंद साबित हो सकता है.
5 .बेसन-
डायबिटीज के मरीज प्रतिदिन करें इन पांच तरह के आटों से बनी रोटियों का सेवन, नियंत्रित रहेगा ब्लड शुगर लेवल
बेसन न्यूट्रीशन से भरपूर होता है. जिसका प्रयोग ज्यादातर घरों में पकौड़े या कढ़ी बनाने में अधिक किया जाता है. लेकिन आपको पता है इसकी रोटी कैंसर से लेकर डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारियों को दूर रखने में फायदेमंद है. बेसन में प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है. इसलिए लो ग्लाईसेमिक इंडेक्स वाला होता है. यही कारण है कि यह वेट लॉस के साथ डायबिटीज में काफी लाभदायक साबित होता है. ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होने के कारण बेसन की रोटी खाने के बाद बहुत देर से ब्लड में पहुंचती है और शुगर का स्तर पढ़ नहीं पाता है. इसलिए वेट कम करने वालों और डायबिटीज रोगियों के लिए बेसन का सेवन करना काफी लाभदायक होता है.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments