कमजोर पाचन शक्ति की समस्या से परेशान हैं तो आजमाएं ये घरेलू नुस्खा, पत्थर भी न पच जाए तो कहना

कल्याण आयुर्वेद- अगर व्यक्ति को अपने स्वास्थ्य को ठीक रखना है तो इसके लिए पाचन शक्ति का मजबूत होना बहुत जरूरी है क्योंकि हम जो कुछ भी खाते हैं, वह हमारे पाचन तंत्र में ही पहुंचता है, पाचन तंत्र भोजन को ऊर्जा में बदल कर शरीर को शक्ति और पोषण प्रदान करता है. यह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी बढ़ोतरी करता है, यदि पाचन क्रिया कमजोर हो जाए तो हम कुछ भी खाए- पिए वह ठीक प्रकार से नहीं पचता है और हमारे शरीर को जरूरी पोषक तत्व प्राप्त नहीं हो पाता है.
कमजोर पाचन शक्ति की समस्या से परेशान हैं तो आजमाएं ये घरेलू नुस्खा, पत्थर भी न पच जाए तो कहना
खराब पाचन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लगती है. जिसकी वजह से कई बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है. अनियमित जीवनशैली और खराब खाने-पीने की आदतों की वजह से हमारा पाचन तंत्र प्रभावित होता है. पाचन शक्ति मजबूत न होने पर पेट में गैस, कब्ज, एसिडिटी, अल्सर, मोटापा, दुबलापन, बदहजमी, पेट और लिवर से जुड़ी बीमारियां होने का खतरा अधिक हो जाता है. इसलिए जरूरी है कि हमारा पाचन तंत्र स्वस्थ हो और यह ठीक प्रकार से अपना काम कर सके.
कमजोर पाचन शक्ति की समस्या से परेशान हैं तो आजमाएं ये घरेलू नुस्खा, पत्थर भी न पच जाए तो कहना
बहुत से लोग ऐसे हैं, जिनका पाचन तंत्र ठीक प्रकार से काम नहीं कर पाता है. जिसके कारण कई गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ता है. अगर पाचन तंत्र से संबंधित किसी भी समस्या का समाधान समय रहते नहीं किया जाए तो इससे व्यक्ति की जानकारी खतरा हो सकता है और शरीर में कई तरह की छोटी- मोटी बीमारियां लगने लगती है.
ऐसे में आज हम आपको कुछ उपाय बताने जा रहे हैं. जिसकी मदद से आप कमजोर पाचन तंत्र को मजबूत बना सकते हैं और कब्ज, गैस, एसिडिटी, आंत में सूजन आदि की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं.
इस उपाय को करने के लिए आपको इन चीजों की जरूरत पड़ेगी.
ईसबगोल की भूसी- 50 ग्राम.
कालपी मिश्री- 50 ग्राम.
दरियाई ताल मखाना- 50 ग्राम.
हजरत जहूर पत्थर- 25 ग्राम.
इन सभी चीजों को मिक्सी में पीसकर पाउडर बना लेना है और इसे एक चम्मच की मात्रा में सुबह खाली पेट प्रतिदिन सेवन करना है. इसके साथ ही 100 ग्राम त्रिफला चूर्ण में 5 ग्राम खाने का सोडा को अच्छी तरह से मिलाकर सुरक्षित रख लेना है. अब आधा चम्मच की मात्रा में रात को खाना खाने के बाद गर्म पानी के साथ प्रतिदिन सेवन करना है.
कमजोर पाचन शक्ति की समस्या से परेशान हैं तो आजमाएं ये घरेलू नुस्खा, पत्थर भी न पच जाए तो कहना
Note- इन दोनों उपायों को नियमित रूप से 21 दिनों तक सेवन करना है, अगर 21 दिनों में पूर्ण रूप से पेट की समस्या दूर ना हो तो 1 सप्ताह छोड़कर फिर से इसे 21 दिन ही सेवन करना है. ऐसे तो 21 दिन के सेवन से ही कब्ज, गैस, एसिडिटी, पेट में सूजन, बार-बार पेट खराब होने की समस्या दूर हो जाती है. यह आजमाया हुआ उपाय है.
हां, इस दवा के सेवन के दौरान वैसे चीजों के सेवन से परहेज रखें. जिससे गैस की समस्या होती है. जैसे- तेल मसालों का अधिक सेवन समय पर भोजन नहीं करना. इससे दूर रहें और जितना भूख लगे कुछ न कुछ खाते रहे पेट को खाली ना होने दें. निश्चित रूप से पेट की समस्या दूर हो जाएगी. यह दवा बनी बनाई भी आपको मिल सकती है इसके लिए कमेंट में अपना नंबर दे सकते हैं.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments