किन- किन बीमारियों से रक्षा करता है तांबे के बर्तन में रखा पानी पीना, जानकर दंग रह जाएंगे

कल्याण आयुर्वेद- आपने कई लोगों से सुना होगा कि सुबह उठकर तांबे के बर्तन में रखें पानी पीने से शरीर स्वस्थ व निरोग रहता है, सुना ही नहीं होगा बल्कि पढ़ा ही होगा. यह बात बिल्कुल सही है. तांबा सीधे तौर पर आपके शरीर में कॉपर की कमी को पूरा करता है और बीमारी पैदा करने वाले जीवाणुओं से आपकी रक्षा कर आपको पूरी तरह से स्वस्थ बनाए रखने में मददगार होता है. सुबह उठकर तांबे के बर्तन में पानी भरकर रखने के बाद सुबह उसी पानी को पीने से कई बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है.

किन- किन बीमारियों से रक्षा करता है तांबे के बर्तन में रखा पानी पीना, जानकर दंग रह जाएंगे

कहा जाता है कि पहले के समय में लोग इस विधि का प्रयोग सुबह की दिनचर्या में जरूर शामिल किया करते थे. इस समय लोगों का खान-पान रहन-सहन यहां तक कि पानी पीने का तरीका भी बदल गया है.

आयुर्वेद में बताया गया है कि तांबे का पानी शरीर के कई दोषों को शांत करता है. साथ ही इस पानी से शरीर के जहरीले तत्व बाहर निकाले जा सकते हैं क्योंकि तांबे के बर्तन में रखा पानी पेट को साफ रखता है और पेशाब भी साथ लाता है.

तांबे के बर्तन में रखा पानी पूरी तरह से शुद्ध माना जाता है. यह सभी प्रकार के बैक्टीरिया को खत्म कर देता है. साथ ही साथ जान ले कि इस पानी को कम से कम 8 घंटे तक तांबे के बर्तन में रखा हुआ होना चाहिए.

आयुर्वेद में तांबे की मदद से औषधियों का निर्माण भी किया जाता है जो पेट के रोग, प्रमेह, अजीर्ण, विषम ज्वर, सन्निपात, कफोदर, प्लिहोदर, यकृत विकार, परिणामशूल, हिचकी, अफारा, अतिसार, संग्रहणी, जौंडिस, मांसार्बुद, गुल्म, कुष्ठ, कृमि रोग, हैजा में ताम्र भस्म महा औषध है, कभी-कभी यकृत में पथरी भी हो जाती है. इसके लिए ताम्र भस्म का बहुत अच्छा लाभ होता है. इसके सेवन से पीठ विकृति जानी शूल शांत होता है. इसलिए तांबे के बर्तन में रखा पानी पथरी को दूर करने में या पथरी होने से रोकने में मददगार होता है.

तांबे में रखे पानी को पीने से कैंसर की समस्या से लड़ने की क्षमता में बढ़ोतरी होती है. शरीर के घाव आंतरिक हो या बाहरी हो वह जल्दी ही भरने में मदद करने में काफी मददगार साबित होता है. शरीर की आंतरिक सफाई के लिए तांबे का पानी कारगर होता है. इसके अलावा लीवर और किडनी को स्वस्थ रखता है और किसी भी प्रकार के इंफेक्शन से निपटने में तांबे के बर्तन में रखा पानी लाभदायक होता है.

तांबे के बर्तन में रखा पानी क्यों होता है फायदेमंद?

आयुर्वेद के अनुसार जिस धातु से बनी बर्तन में पानी रखा जाता है उस धातु के गुण पानी में सूक्ष्म मात्रा में आ जाते हैं जो शरीर में जाने के बाद जिस रोग से संबंधित उसके गुण होते हैं उल रोगों को दूर करने में उस बर्तन में रखा पानी मददगार होता है. इसलिए तांबे के बर्तन में रखा पानी तांबे के गुणों के जैसे हमारे शरीर में काम करता है और हमारे शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में मददगार होता है.

Post a Comment

0 Comments