महिलाओं के स्तनों का अत्यधिक बड़ा होने के कारण और छोटा करने के आयुर्वेदिक उपाय

कल्याण आयुर्वेद- महिलाओं के स्तन सामान्य आकार से अत्यधिक बड़े हो जाते हैं तो ऐसी महिला कुरूप लगने लगती है. उनकी सुंदरता नष्ट हो जाती है. महिला की छाती पर असाधारण बोझ पड़ता है. जिसके कारण कई बार महिला आगे की झुकी हुई रहती है. साथ ही प्रसव के बाद स्तनों में दूध भी कम आता है.
महिलाओं के स्तनों का अत्यधिक बड़ा होने के कारण और छोटा करने के आयुर्वेदिक उपाय
स्तनों का अत्यधिक बड़ा होने के कारण-
शरीर में जब कफ की अधिकता हो जाती है तो स्तनों की वृद्धि हो जाती है, जो महिलाएं अत्यधिक चर्बी युक्त आहार का सेवन करती हैं, उनके शरीर तथा स्तनों में अत्यधिक चर्बी करती हो जाती है जिससे उनका बढ़ना स्वाभाविक हो जाता है. स्तनों की अत्यधिक हिलने- डुलने तथा लटकने से भी उनका स्वाभाविक आकार बढ़ जाता है.
बढ़े हुए स्तनों को छोटा एवं सुडौल बनाने के आयुर्वेदिक उपाय-
1 .महिला को बॉडी पहनने का निर्देश दें, स्तनों पर बेलेडोना प्लास्टर लगाएं.
2 .खुरासानी अजवायन, हरामाजू, खड़िया मिट्टी, काली जीरी, काहू के बीज बराबर मात्रा में पीसकर सिरके में मिलाकर रख लें. इस लेप को स्तनों पर लगाएं. साथ ही इसी की औषधि को खिलाएं.
3 .अनार का छिलका, हरामाजू, इमली के बीजों की गिरी इन सभी औषधियों को बराबर मात्रा में लेकर पीस लें. इस औषधि का चूर्ण से 9 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन सुबह खाली पेट महिला सेवन करें तो बढ़ा हुआ स्तन सही आकार में आ जाता है.
नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है, किसी भी प्रयोग से पहले योग्य वैध की सलाह जरूर लें.
यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.
स्रोत- स्त्री रोग चिकित्सा.

Post a Comment

0 Comments