जानें- दीपावली के दिन क्यों खरीदी जाती है झाड़ू

दीपावली हिंदुओं का मुख्य त्योहारों में से एक है. इस त्यौहार को देश और दुनिया में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है.दीपावली का त्यौहार रोशनी का प्रतीक है. इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है. दीपावली के त्यौहार को लेकर लोगों में अलग-अलग मान्यताएं हैं. एक मान्यता है कि दीपावली के दिन झाड़ू खरीदना शुभ माना जाता है.
तो चलिए जानते हैं दीपावली के दिन झाड़ू खरीदना क्यों शुभ माना जाता है? दीपावली के दिन झाड़ू खरीदना शुभ माना जाता है कहा जाता है कि दीपावली के दिन झाड़ू खरीद कर इसे पूजा के बाद अगले दिन से इस्तेमाल करना चाहिए. झाड़ू के सही इस्तेमाल घर के वास्तु दोष दूर होते हैं. यही नहीं झाड़ू से जुड़ी कुछ दूसरी मान्यताएं भी है जो इस प्रकार है. * धार्मिक मान्यताओं के अनुसार झाड़ू का अपमान करने से मां लक्ष्मी का अपमान होता है. माना जाता है कि जिस घर में झाड़ू को पैर लगाया जाता है वहां मां लक्ष्मी निवास नहीं करती है इसलिए धन की कमी रहती है. * ऐसी भी मान्यता है कि झाड़ू को सिर्फ शनिवार के दिन खरीदना चाहिए. इससे घर में सुख- शांति बनी रहती है. * दीपावली के मौके पर धन को लेकर अगर यह उपाय किए जाएं तो मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है. घर परिवार में सालभर खुशहाली का वास होता है. * दीपावली के दिन अगर स्थाई लक्ष्मी का वास चाहिए तो मंदिर में शुभ मुहूर्त के समय झाड़ू दान करनी चाहिए. * इसके अलावा अगर नए घर में प्रवेश करना है तो झाड़ू के साथ प्रवेश करना बहुत ही शुभ माना जाता है. * ऐसा भी कहा जाता है कि झाड़ू खुला रखना अशुभ होता है. मुख्य द्वार से झाड़ू कभी दिखनी नहीं चाहिए. जब घर में झाड़ू का इस्तेमाल ना हो तो उसे नजर के सामने ना रखें बल्कि उत्तर दिशा की तरफ झाड़ू छिपा कर रखना चाहिए. * झाड़ू को कभी भी पूजा घर, भंडार गृह और सोने के कमरे में नहीं रखना चाहिए. सोने के कमरे में झाड़ू रखने से पत-ि पत्नी के बीच अनबन शुरू हो जाती है. * अगर झाड़ू पुरानी हो गई है तो शनिवार को ही पुरानी झाड़ू बदलनी चाहिए. परिवार को घर में साफ-सफाई का खास ध्यान रखें. * झाड़ू को पैर से कभी नहीं लगाएं, साथ ही इस को कभी भी जलाना नहीं चाहिए, क्योंकि ऐसी मान्यता है कि झाड़ू को जलाने से मां लक्ष्मी का अपमान होता है. स्रोत- वास्तु शास्त्र.

Post a Comment

0 Comments