पुरुषों को ताकतवर और शक्तिशाली बना देगा यह चूर्ण, जानें सेवन करने के तरीके

कल्याण आयुर्वेद- हर किसी की चाहत होती है कि उनका शरीर कमजोरी से दूर रहे और ताकतवर एवं शक्तिशाली हो. साथ ही उनके चेहरे पर निखार बना रहे. यदि आप भी ऐसा चाहते हैं तो आज हम आपको एक ऐसे चूर्ण के बारे में बताने जा रहे हैं. जिसकी मदद से आप शारीरिक, मानसिक एवं यौन कमजोरी को आसानी से दूर कर सकते हैं. साथ ही आपके चेहरे पर हमेशा निखार बना रहेगा.

पुरुषों को ताकतवर और शक्तिशाली बना देगा यह चूर्ण, जानें सेवन करने के तरीके

जी हां, आज हम आपको जिस चूर्ण के बारे में बताने जा रहे हैं वह है अश्वगंधा चूर्ण. अश्वगंधा को इंडियन जिंसेंग या विंटर चेरी भी कहा जाता है. इसके फायदे बहुत है तथा इसका प्रयोग कई प्रकार के रोगों के उपचार में किया जाता है. अश्वगंधा का सेवन मुख्यतः इसके चूर्ण के रूप में किया जाता है. यह दिमाग के लिए भी काफी फायदेमंद होता है.

अश्वगंधा का प्रयोग हमारे दैनिक जीवन में सामान्य रूप से किया जाता है. लेकिन यह हमारे स्वास्थ्य के लिए असाधारण रूप से फायदेमंद होता है.

तो चलिए जानते अश्वगंधा चूर्ण के फायदे-

1 .हमारे शरीर में कोर्टिसोल नामक एक हार्मोन मौजूद होता है जो शरीर में ज्यादा होने पर तनाव उत्पन्न करता है. कई बार शरीर में ज्यादा मात्रा में कोर्टिसोल होने पर रक्त में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है. जिसके परिणाम स्वरूप कई तरह की बीमारियां होने लग जाती है. कई शोधों से पता चला है कि अश्वगंधा शरीर में कोर्टिसोल की मात्रा को कम करता है. जिससे तनाव को दूर करने में मदद मिलती है.

2 .कई परीक्षणों में पाया गया है कि अश्वगंधा के प्रयोग से सूजन भी कम हो जाती है. कई परीक्षणों में पाया गया है कि इसका प्रयोग नेचुरल किलर सेल्स की गतिविधियों को बढ़ाता है जो हमें स्वस्थ रहने और बीमारियों से लड़ने में मददगार होता है. ऐसे में आपको नियमित रूप से अश्वगंधा का सेवन करना चाहिए.

3 .अश्वगंधा के प्रत्येक भाग का अपना एक महत्व होता है जो कि मानव जीवन के लिए वरदान की तरह है. अश्वगंधा का उपयोग छोटे लोगों से लेकर गंभीर रोगों तक के उपचार में किया जाता है. अश्वगंधा की जड़ों का प्रयोग इस प्रकार के रोगों के निवारण के लिए किया जाता है. अश्वगंधा की जड़ का उपयोग जोड़ों के दर्द, तंत्रिका तंत्र के विकार के उपचार में लाभदायक होता है.

4 .अश्वगंधा की छाल का काढ़ा अस्थमा या सांस की बीमारी और घाव के उपचार में मददगार होता है.

5 .अश्वगंधा न सिर्फ हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है बल्कि यह हमारे सौंदर्य को बढ़ाने में भी अहम भूमिका निभाता है. अश्वगंधा के पाउडर को तेल में मिलाकर लगाने से त्वचा से जुड़ी समस्याएं दूर होती है.

6 .अश्वगंधा मोटापे को घटाने में सहायक होता है. अनावश्यक रूप से बढ़े हुए वजन को अश्वगंधा निर्मित वस्तुओं के सेवन से दूर किया जा सकता है. अश्वगंधा का प्रयोग ग्रीन टी के तरह किया जा सकता है.

7 .अश्वगंधा चूर्ण का सेवन जो पुरुष नियमित रूप से करते हैं उनकी शारीरिक कमजोरी दूर होकर यौनशक्ति में बढ़ोतरी होती है.

कैसे करें अश्वगंधा चूर्ण का सेवन-

इसका सेवन करना बहुत ही आसान है. इसके लिए आपको अश्वगंधा की जड़ों को लेना है यह बाजार में आसानी से मिल जाता है या फिर आयुर्वेदिक कंपनियां इसको चूर्ण बनाकर भेजती है. इसमें से एक चम्मच चूर्ण को रात को सोने से आधे घंटे पहले गाय के दूध के साथ नियमित सेवन करें. इसके सेवन से शारीरिक और मानसिक कमजोरी दूर होती है एवं यौन शक्ति में बढ़ोतरी होती है.

यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments