यूरिक एसिड बढ़ने पर शरीर देता है ये संकेत, न करें नजरअंदाज

कल्याण आयुर्वेद- आज के बदलते लाइफस्टाइल कोई भी बीमारी का होना उम्र कोई मायने नहीं रखता है और किसी भी उम्र में 40 के बाद होने वाली बीमारियां देखी जा रही है. ऐसे में यूरिक एसिड का बढ़ना एक समस्या है जो किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है.

यूरिक एसिड बढ़ने पर शरीर देता है ये संकेत, न करें नजरअंदाज

यूरिक एसिड बढ़ने का क्या मतलब होता है?

खून में बहुत अधिक यूरिक एसिड बढ़ने को चिकित्सकीय भाषा में हाइपरयूरीसीमिया कहा जाता है. यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने से कई बीमारियां हो सकती है. जैसे- गाउट (अर्थराइटिस ) यह समस्या अन्य स्वास्थ्य स्थितियों जैसे हृदय रोग, शुगर और किडनी रोग से भी संबंधित है.

आपको बता दें कि आपके द्वारा खाए गए भोजन और शरीर की कोशिकाओं के टूटने की प्राकृतिक प्रक्रिया के द्वारा यूरिक एसिड बनता है. गुर्दे खून में से अधिकतर यूरिक एसिड को साफ कर देते हैं तो फिर पेशाब के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाता है. इसके अलावा यूरिक एसिड का कुछ भाग मल के द्वारा भी शरीर से बाहर निकलता है. लेकिन इसके अधिक बनने की स्थिति में किडनी खून से इसको हटा नहीं पाती है. इसके वजह से खून में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है.

खून में यूरिक एसिड बढ़ने से जोड़ों में ठोस क्रिस्टल बन सकते हैं. इसकी वजह से गाउट रोग हो सकता है जोकि बहुत दर्दनाक होता है. अगर गांठ का इलाज न किया जाए तो यह यूरिक एसिड के क्रिस्टल जोड़ों और उनके आसपास के उत्तकों में एकत्रित होकर एक गांठ का रूप ले लेती है. इस गांठ को चिकित्सकीय भाषा में टॉफी कहा जाता है. यूरिक एसिड बढ़ने से गुर्दे की पथरी, गुर्दे खराब होने की समस्या हो सकती है.

यूरिक एसिड बढ़ने के कारण-

खून में यूरिक एसिड बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं जैसे-

* अनुवांशिकता यानी पहले से परिवार में किसी को होना.

* इंसुलिन विरोध.

* शरीर में आयरन का ज्यादा होना.

* हाई ब्लड प्रेशर.

* थायराइड का कम या अधिक होना.

* गुर्दे की खराबी.

* मोटापा.

* गलत आहार का सेवन.

* अधिक मात्रा में शराब पीना.

* कुछ दवाएं विशेषकर हृदय रोग की दवाएं.

* लीड के संपर्क में आना.

* कीटनाशक के संपर्क में आना.

* खून में ग्लूकोज का ज्यादा होना.

खून में यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण या संकेत-

जोड़ों में दर्द होना, उठने बैठने में परेशानी होना.

अंगुलियों में सूजन आ जाना.

जोड़ों में गांठ की शिकायत होना.

इसके अलावा पैरों और हाथों की अंगुलियों में चुभन वाला दर्द होता है जो कई बार असहनीय हो जाता है. इसमें आदमी ज्यादा जल्दी थक भी जाता है. इसलिए इन लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करें.

यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments