इस तेल की मालिश से जड़ से खत्म हो जाता है सफेद दाग, परेशान है तो आजमाकर जरूर देखें

कल्याण आयुर्वेद- सफेद दाग को ल्यूकोडरमा, श्वेत कुष्ठ के नाम से भी जाना जाता है. यह बहुत ही जटिल बीमारी होती है. हालांकि इसमें किसी तरह का कोई कष्ट नहीं होता है. लेकिन शरीर के जिस हिस्से में यह होता है उसे कुरूप बना देता है जो दिखने में खराब लगने लगता है. इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए ना जाने कई तरह की दवाओं के इस्तेमाल करते हैं लेकिन इससे छुटकारा नहीं मिल पाता है.

इस तेल की मालिश से जड़ से खत्म हो जाता है सफेद दाग, परेशान है तो आजमाकर जरूर देखें

आज हम इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए एक तेल के बारे में बताने जा रहे हैं. जिसके इस्तेमाल से 1 सप्ताह में ही सफेद दाग का रंग बदलने लगता है और कुछ दिनों तक प्रयोग करने से ठीक हो जाता है.

चलिए जानते हैं उस तेल के बारे में-

इस तेल को बनाने के लिए 10 ग्राम मूली का बीज, 10 ग्राम बागची चूर्ण और 10 ग्राम पमार का बीज लेना है अब सभी को कूटकर 10 ग्राम सरसों के तेल में मिलाकर 3 दिन धूप में रखें. इसके बाद यह तेल उपयोग के लिए तैयार हो गया.

कैसे करें इस्तेमाल-

शरीर के जिस हिस्से में सफेद दाग हो उस पर तेल को लगाकर मालिश करें और आधा से 1 घंटे धूप में बैठे. इस तरह नियमित इस्तेमाल करने से 1 सप्ताह में ही त्वचा का रंग बदलने लगता है और कुछ दिनों तक इसका इस्तेमाल करते रहने से सफेद दाग की समस्या से छुटकारा मिलती है.

Note- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है. यह आयुर्वेद ज्ञान गंगा किताब से लिया गया नुस्खा है और इसका इस्तेमाल काफी लाभदायक होता है. परेशान लोगों को एक बार इसका इस्तेमाल करना चाहिए. हां बता दे कि बाकूचीआदि तेल के नाम से कई आयुर्वेदिक कंपनियां इसे बनाकर बाजार में बेचती है.

यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें ताकि किसी परेशान को काम आ जाए. धन्यवाद.

आयुर्वेद चिकित्सक- डॉ. पी. के. शर्मा.

Post a Comment

0 Comments