महिला व पुरुष बांझपन को सिर्फ 14 दिन में निश्चित ही दूर करता है यह पौधा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

कल्याण आयुर्वेद- पति- पत्नी के रिश्ते बहुत ही मजबूत होते हैं, लेकिन इनके बीच एक बच्चा आ जाए तो इनके रिश्ते को और भी मजबूती मिल जाता है. लेकिन वही जिस घर में बच्चा ना हो तो पति- पत्नी के रिश्ते में खटास आने लगती है क्योंकि पति- पत्नी में दोष लगाने लगता है तो पत्नी पति को दोष लगाने लगती है. मां-बाप का सुख हासिल करना हर विवाहित जोड़े का सपना होता है, मगर किन्ही कारणों से वे बच्चों की किलकारियों से वंचित रह जाते हैं. चाहे महिला में बाँझपन हो या पुरुष में नपुंसकता.

महिला व पुरुष बांझपन को सिर्फ 14 दिन में निश्चित ही दूर करता है यह पौधा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

तो आज हम आपको एक ऐसे पौधे के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे पुराने समय से अशुभ माना जाता है लेकिन यह औषधीय गुणों का भंडार होता है.

जी हां, हम जिस पौधे के बारे में बात करने जा रहे हैं उसका नाम है सत्यानाशी. इस पौधे को आप लोगों ने जरूर देखा होगा. यह पौधा  भारत के लगभग सभी क्षेत्रों में पाया जाता है और मुख्य रूप से शुष्क क्षेत्रों में इसका पौधा अधिक होता है.  यह आपको खेत, खलिहान, नदी, नाला हर जगह आसानी से मिल जाता है.  यह दो प्रकार के फूलों वाला होता है एक तो पीले फूल वाला और दूसरा सफेद फूल वाला.  यह दोनों ही फूल वाले पौधे  औषधि के रूप में समान होते हैं. इसके प्रत्येक कटीले और इसे तोड़ने पर सुनहरे रंग के दूध निकलते हैं. लेकिन इसके गुणों से आप अनजान होंगे. आपको बता दें कि कितना भी पुराना घाव हो दाद, खाज, खुजली हो उसे यह पौधा चुटकियों में ठीक कर देता है और सबसे बड़ी बात तो यह है कि यह पौधा  बांझपन और नपुंसकता को बिल्कुल भी दूर कर देता है.

महिला व पुरुष बांझपन को सिर्फ 14 दिन में निश्चित ही दूर करता है यह पौधा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

चलिए जानते हैं इस्तेमाल करने के तरीके-

महिला बांझपन के लिए-

बांझपन एक ऐसी समस्या है जिससे कोई भी महिला टूट जाती है, हमारे समाज में इस समस्या के कारण महिलाओं को काफी अपमान का भी सामना करना पड़ता है. अगर आप भी इस समस्या से परेशान हैं तो सत्यानाशी के पौधे की जड़ की छाल को छाया में सुखाकर इसका पाउडर बना लें. इसको सुबह खाली पेट 1 से 2 ग्राम दूध के साथ सेवन करें. इसके नियमित सेवन करने से बांझपन और धातु रोग की समस्या 14 दिन में ही खत्म हो जाती है.

वहीं अगर यह समस्या अधिक उम्र के व्यक्ति को है तो इसका सेवन अधिक दिन तक करना पड़ सकता है. अगर इसकी जड़ों को धोकर इनका पाउडर बना लें और इसका प्रयोग सुबह मिश्री के साथ करें तो बाँझपन खत्म हो जाती है और संतान की प्राप्ति होती है. इसके लिए यह रामबाण औषधि है.

नपुंसकता के लिए-

मर्दों में होने वाली यह समस्या बहुत ही दुख दायक होती है. पुरुषों में शुक्राणुओं की कमी होना या फिर कोई भी कमी उसके नपुंसकता होने की निशानी होती है तो ऐसे में सत्यनाशी की जड़ों को पीसकर सत्यनाशी की जड़ का पाउडर और इतनी ही मात्रा में बरगद का दूध को मिलाकर चने के बराबर गोलियां बना लें. इन गोलियों को लगातार 1 से 2 गोली14 दिन तक सुबह-शाम पानी के साथ सेवन करने से नपुंसकता दूर हो जाती है. यह भी एक रामबाण उपाय है.

नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है, किसी भी प्रयोग से पहले योग्य वैध की सलाह जरूर लें.

यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें ताकि किसी परेशान को काम आ जाए. धन्यवाद.

स्रोत- भावप्रकाश निघंटू.

Post a Comment

0 Comments