शनिवार के दिन पीपल पेड़ के नीचे करें यह उपाय, खत्म हो जाएगा बुरा समय और हो जायेंगे मालामाल

ज्योतिष शास्त्र- पीपल पेड़ को हिंदुओं में पूजनीय माना गया है. शास्त्रों में बताया गया है कि पीपल में सभी देवी देवताओं का वास होता है. शास्त्रों के अनुसार पीपल के मूल में ब्रह्मा जी, मध्य में विष्णु जी तथा अग्रभाग में भगवान शिव जी साक्षात रूप से विराजित हैं. स्कंद पुराण के अनुसार पीपल की जड़ में विष्णु, तने में केशव, शाखाओं में नारायण, पत्तों में भगवान श्री हरि और फलों में सभी देवताओं के साथ अच्युत देव का वास होता है.

शनिवार के दिन पीपल पेड़ के नीचे करें यह उपाय, खत्म हो जाएगा बुरा समय और हो जायेंगे मालामाल

अधिकांश लोगों को शनि दोष की वजह से जीवन में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है. ज्योतिष के अनुसार शनि को न्यायाधीश का पद प्राप्त है. अतः सभी लोगों के अच्छे- बुरे कर्मों का फल शनिदेव ही प्रदान करते हैं. इसी वजह से इन्हें क्रूर देवता माना जाता है. यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि अशुभ स्थिति में हो तो उसे जीवन भर संघर्ष और कष्टों का सामना करना पड़ता है.

शनि के बुरे प्रभावों को दूर करने या कम करने के लिए शास्त्रों में उपाय बताए गए हैं. शनिवार के दिन शनि दोषों के निवारण के लिए कुछ खास उपाय हैं. जिन्हें अपनाने से निश्चित ही व्यक्ति को लाभ प्राप्त होता है. यदि आप शनि की वजह से जीवन में अत्यधिक परेशानियों का सामना कर रहे हैं तो यह उपाय अपनाकर आप कष्ट से मुक्ति पा सकते हैं.

प्रति शनिवार ब्रह्म मुहूर्त में उठकर नित्य कर्मों से निवृत्त होकर नहा- धोकर पवित्र हो जाएं, नीले रंग के वस्त्र धारण करें और किसी पीपल के वृक्ष की ओर जाएं, अपने साथ दीपक, तेल, रूई की बाती आदि पूजन सामग्री भी लेते जाएं. इसके बाद पीपल के वृक्ष के नीचे बैठकर शनिदेव का ध्यान करें और अशुभ प्रभावों को दूर करने की शनि देव से प्रार्थना करें.

इस प्रकार तैयार करें दीपक-

ध्यान रहे, दीपक ऐसा हो जिसके चारों मुख है मतलब जिस दीपक को एक साथ चार जगह से चलाया जा सके. इस प्रकार दीपक में दो रुई की लंबी बाती लगाएं और दोनों बत्तियों के चार मुंह दीपक से बाहर निकालें और चारों ओर से दीपक को जलाएं.

यह दीपक पीपल वृक्ष के नीचे रखें और शनि देव से प्रार्थना करें. इसके बाद पीपल बृक्ष की सात परिक्रमा लगाएं. पुनः घर लौट कर एक कटोरी में तेल लें. उसमें अपना चेहरा देखें और इस तेल का दान करें. इस प्रकार यह उपाय अपनाने से सभी दोषों का प्रभाव अवश्य ही कम हो जाएगा. ध्यान रहे शनि बुरे कर्मों का बुरा फल देते हैं, अतः बुरे कर्मों से दूर रहें अन्यथा और अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments