इस पेड़ की टहनी टूटने या काटने से निकलता है इंसानों जैसा खून, जानें नाम

आप लोग अक्सर सुनें या जानते होंगे कि मैं पौधों में भी जान होती है. वह भी इंसानों की तरह सांस लेते हैं. लेकिन लोग उन्हें काटते समय यह बात भूल जाते हैं. अब जरा सोचिए कि अगर आपने कोई पेड़ काटा और उससे इंसानों की तरह खून निकलने लगे तो यकीनन आप ऐसा नजारा देखकर जरूर डर जायेंगे. क्योंकि इसकी उम्मीद आपने कभी नहीं की होगी. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे पेड़ के बारे में रूबरू कराने जा रहे हैं जिसे काटने पर इंसानों की तरह खून निकलता है. ज्यादातर लोग इस पेड़ के बारे में जानते ही नहीं हैं. लेकिन जो जानते हैं इसे जादुई पेड़ ही मानते हैं.

इस पेड़ की टहनी टूटने या काटने से निकलता है इंसानों जैसा खून, जानें नाम

चलिए जानते हैं विस्तार से-

आखिर क्यों निकलता है इसे काटने या टूटने पर खून?

दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले इस बेहद ही खास और अनोखे पेड़ को लोग ब्लडवुड ट्री के नाम से जानते हैं. इसे और भी कई नामों से जाना जाता है जैसे कि किआट, मुक्वा,मुनिंगा. इसका वैज्ञानिक नाम सेरोकार्पस एंगोलेंसिस है. यह अनोखा पेड़ मोजांबिक, नामीबिया, तंजानिया और जिंबाब्वे जैसे देशों में भी पाया जाता है.

लेकिन ऐसा नहीं है कि उसको सिर्फ काटने से ही खून निकलता है. इसकी अगर डाली टूट भी जाए तो भी उस जगह से खून निकलने लगता है. असल में यह गहरे लाल रंग का एक तरल पदार्थ होता है जो देखने में बिल्कुल खून जैसा लगता है.

इस पेड़ की टहनी टूटने या काटने से निकलता है इंसानों जैसा खून, जानें नाम

आपको बता दें कि इस अनोखे पेड़ की लंबाई 12 से 18 मीटर तक होती है. इस पेड़ के ऊपर पत्तों और टहनियों का आकार इस तरीके से बना होता है जैसे वहां कोई छतरी लगी हो. इसके पत्ते काफी घने होते हैं और इस पर पीले रंग के फूल खिलते हैं. इसकी लकड़ी से काफी महंगे- महंगे फर्नीचर भी तैयार किए जाते हैं. इसकी लकड़ी का खासियत यह है कि वह आसानी से मुड़ जाती है और ज्यादा सिकुड़ती भी नहीं है.

दोस्तों, लोग इसे जादुई पेड़ भी मानते हैं क्योंकि इसका इस्तेमाल दवाई के रूप में भी किया जाता है. यह इंसानों के खून संबंधी बीमारियों को दूर कर देता है. इसके इस्तेमाल से दाद से लेकर आंखों की परेशानी, पेट की समस्या, मलेरिया और गंभीर चोटों को भी ठीक करने के लिए किया जाता है.

यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

स्रोत- खबर जरा हटकर.

Post a Comment

0 Comments