आज दीपावली पर इस जगह जरूर जलाएं दीपक, मां लक्ष्मी के साथ खुश हो जाएंगे शनि महाराज

शुभ दीपावली- जैसा कि आप जानते हैं कि आज दीपावली है. दीपावली दीपों का त्योहार है और दीपावली की रात चारों तरफ लोग दीपक जलाते हैं और रोशनी से चारों तरफ जगमगा उठता है. दीपावली के दिन मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है. 

आज दीपावली पर इस जगह जरूर जलाएं दीपक, मां लक्ष्मी के साथ खुश हो जाएंगे शनि महाराज

आपको बता दें कि 14 नवंबर 2020 आज कार्तिक कृष्ण अमावस्या के दिन 2:18 से आरंभ हो रहा है. आज ही शाम और मध्य रात्रि में अमावस्या तिथि होने के कारण प्रकाश का पर्व दीपावली मनाई जा रही है. दीपावली को सिद्धि और समृद्धि की रात भी धर्म ग्रंथों में बताया गया है क्योंकि इस रात देवी लक्ष्मी की पूजा भगवान गणेश और कुबेर के साथ की जाती है. देवी लक्ष्मी देवी और देवताओं के कोषाध्यक्ष हैं. भगवान गणेश बुद्धि के देवता है जो धन अर्जित करने और उसे विवेक से खर्च करने की क्षमता देते हैं. इसलिए इनकी पूजा दीपावली की रात देवी लक्ष्मी और कुबेर की जाती है. इस दिन का समय देवी लक्ष्मी और कुबेर की पूजा करना गृहस्थों के लिए उत्तम माना गया है. जबकि मध्य रात्रि में महा निश्चित काल में देवी लक्ष्मी और कुबेर की साधन मंत्र- तंत्र से करना सिद्धि दायक माना गया है. दिवाली के अवसर पर देवी लक्ष्मी गणेश और कुबेर की पूजा विधि विधान से करना चाहिए.

इस जगह जरूर जलाएं दीपक-

आज दीपावली है लेकिन शनिवार दिन भी है इसलिए यदि आप एक दीपक पीपल वृक्ष के नीचे जलाते हैं तो इससे शनि महाराज भी आप पर खुश होंगे. आपको एक दीपक पीपल वृक्ष के नीचे जरूर जलाना चाहिए.

माना जाता है कि पीपल के पेड़ में शनि देव का वास होता है. ऐसे तो कहा जाता है कि घर के आसपास पीपल का पेड़ है तो शाम के समय पीपल के पेड़ के नीचे घी का दीपक प्रतिदिन जलाएं. ऐसा करने से शनि के साथ ही राहु, केतु के दोष खत्म हो जाते हैं. शनिदेव को न्याय का देवता हैं. कहा जाता है कि पूजा करने से प्रसन्न होते हैं.

वेदों तथा प्राचीन ग्रंथों में बताया गया है कि पीपल के वृक्ष के नीचे देवता निवास करते हैं जो मानव वहां पवित्र दीपक जलाता है. देवताओं की कृपा उसका जीवन शुभत्व और कल्याण की ज्योति से प्रकाशित होता है. पीपल के नीचे दीपक जलाने से मनुष्य के जीवन का अंधकार समाप्त होता है और सकारात्मक परिवर्तन आते हैं

स्कंद पुराण में पीपल की विशेषता और उसके धार्मिक महत्व का उल्लेख करते हुए बताया गया है कि पीपल के मूल में विष्णु, तने में केशव, शाखा में नारायण, पत्तों में श्रीहरि और फलों में सभी देवताओं के साथ अच्युत देव निवास करते हैं. इस पेड़ को श्रद्धा से प्रणाम करने से सभी देवता प्रसन्न होते हैं और आप पर उनकी कृपा बनी रहती है.

इसलिए आज दीपावली के दिन पीपल वृक्ष के नीचे एक दीपक घी का जरूर जलाएं.

यह जानकारी अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. आपको और आपके पूरे परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं.धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments