जिसने भी किया कामदेव के इस मंत्र का जाप, पाया मनचाहा प्रेम, जानें इस मंत्र के फायदे

 शास्त्र- हिंदू धर्म में अनेकों ऐसी मान्यता है जिसके अनुसार धर्म-कर्म, मोक्ष को पा सकते हैं. त्रिदेव यानी भगवान विष्णु, भगवान शिव और ब्रह्मा जी के अलावा काम के देवता कामदेव को भी पूजनीय माना गया है. पति- पत्नी के रिश्ते को मजबूत करने के लिए और प्रेमी और प्रेमिका के रिश्ते में सुखमय बनाए रखने के लिए कामदेव की पूजा की जाती है. इनका स्वरूप युवा और बहुत ही आकर्षक माना जाता है. आपको बता दें कि कामदेव की पत्नी का नाम रति है. कामदेव की शक्ति की कल्पना करना असंभव माना जाता है. कामदेव को भगवान कृष्ण और देवी श्री का पुत्र माना जाता है.

जिसने भी किया कामदेव के इस मंत्र का जाप, पाया मनचाहा प्रेम, जानें इस मंत्र के फायदे

कामदेव के कवच को उनकी शक्ति माना गया है. आज कामदेव नहीं उनकी पत्नी के महत्व के बारे में जानने की कोशिश किया जा रहा है. माना जाता है कि कामदेव की पत्नी रति का एक ऐसा मंत्र है जिसका जप करने से पति- पत्नी के बीच की हर दूरी खत्म हो जाती है. इसी के साथ उनका वैवाहिक जीवन भी सुखद होता है. देवी रति को प्रेम जुनून और मिलाप की देवी माना जाता है. माना गया है कि इनकी पूजा की जाए तो पति- पत्नी के बीच मतभेद नहीं होता है और उत्तम शारीरिक संबंध बनते हैं. माना जाता है कि रत्ती का जन्म राजा दक्ष के पसीने की बूंद के कारण हुआ था.

ॐ कं कं ज्ञ' ज्ञ: वश्य कुरु कुरु स्वाहा; इस मंत्र की एक माला का जाप यानी 108 बार 21 दिनों तक लगातार करना चाहिए. इस मंत्र के जाप से सभी परेशानियां दूर होने लगती है. अपने वैवाहिक जीवन को अधिक सुखदाई बनाने के लिए 1 दिन में एक माला से अधिक जाप भी किया जा सकता है. पुराणों के मुताबिक माना जाता है कि देवी रति तन से बहुत सुंदर है और शस्त्र लिए घोड़े पर सवार रहती है.

कामदेव के बात ही नहीं उनका मंत्र भी विपरीत लिंग के व्यक्ति को आकर्षित करता है. अगर आप किसी अन्य व्यक्ति को अपने प्रति आकर्षित करना चाहते हैं तो इसमें कामदेव मंत्र आपकी बहुत मददगार साबित हो सकता है. इस मंत्र को बहुत शक्तिशाली मंत्र माना जाता है. कामदेव के मंत्र का प्रतिदिन जाप करना आपके और सामने वाले व्यक्ति के भीतर प्रचुर मात्रा में संवेदना उत्पन्न करता है. इससे ना सिर्फ आपका साथ ही आपके प्रति शारीरिक रूप से आकर्षित होगा बल्कि आपकी प्रशंसा करने के साथ-साथ वह आपको अपनी प्राथमिकता भी बना लेगा.

इस मंत्र को भोर में और रात्रि में 108 बार पढ़ने से मात्र 21 दिनों के भीतर ही व्यक्ति कामदेव मंत्र को सिद्ध कर सकता है. लेकिन इसके लिए आपके ध्यान और श्रद्धा में कोई कमी नहीं रहनी चाहिए. मंत्र सिर्फ दूसरे व्यक्ति को अपने प्रति आकर्षित करने के लिए ही नहीं बल्कि उनके आकर्षण को बरकरार रखने के लिए भी उपयोगी है. लेकिन इस मंत्र के साथ कई शर्ते भी जुड़ी हुई है जिन्हें पूरा करना जरूरी है.

सबसे पहली शर्त यह है कि मंत्र जाप करने वाले व्यक्ति को केवल शाकाहारी भोजन ही ग्रहण करना चाहिए. इसके अलावा मंत्र जाप करने से पहले स्नान करना भी अति आवश्यक है. श्रद्धा और समर्पण की भावना इस मंत्र की सफलता के लिए बूस्टर साबित होती है. कहा जाता है कि प्राचीन काल में वेश्याएं और नर्तकियां इस मंत्र का जाप करती थी क्योंकि वे अपने प्रशंसकों के आकर्षण को खोना नहीं चाहती थी. ऐसा माना जाता है कि इस मंत्र के लगातार जाप करते रहने की वजह से उनका आकर्षण सौंदर्य और कांति बरक़रार रहती थी. कामदेव मंत्र का जाप प्रेम भावना जगाने और प्रेमी को आकर्षित करने के लिए उपयोगी है. लेकिन अगर आप अपने जीवन में सच्चा प्रेम पाना चाहते हैं तो इस मामले में भी यह मंत्र आपके लिए उपयोगी सिद्ध हो सकता है.

स्रोत- यूसी न्यूज़ इंडिया.


Post a Comment

0 Comments