इतिहास- कुंवारी कन्याओं के खून से नहाती थी यह महिला, जानें कारण

आपने अक्सर लड़कियों को खूबसूरत और जवान दिखने के लिए दूध या चंदन से नहाते हुए देखा या सुना होगा. लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि कोई व्यक्ति खून से नहाता है. अगर नहीं तो चलिए आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे हैं जो खुद को जवान रहने के लिए खून से नहाती थी.

इतिहास- कुंवारी कन्याओं के खून से नहाती थी यह महिला, जानें कारण

सीरियल किलर के नाम से मशहूर एलिजाबेथ बाथरी अपनी जवानी को बरकरार रखने के लिए कुंवारी लड़कियों का खून करके नहाया करती थी. यह महिला सीरियल किलर के नाम से प्रसिद्ध थी. उसकी मौत को अब तक करीब 400 साल पूरे हो चुके हैं. जवान दिखने के लिए वह तकरीबन 650 से भी ज्यादा लड़कियों और महिलाओं का खून कर चुकी है. यह घटना 1585 से 1610 के दौरान की है. उस समय वह स्लोवेनिया की चास्चिस महल में रहती थी.

ऐसा भी कहा जाता है कि 1610 में हंगरी के राजा ने उसे कैद कर लिया था. इसके बाद जेल में ही उसकी मौत हो गई. कहा जाता है कि एलिजाबेथ की शादी फेरेंक नसेदडी नामक शख्स से हुई थी. एलिजाबेथ पर नोबेल भी लिखी जा चुकी है. प्रसिद्ध उपन्यासकार ब्राम स्टोकर ने भी 1897 में ड्रेकुला नॉवेल लिखा था जो काफी लोकप्रिय रहा है.

स्रोत- खबर जरा हटकर.

Post a Comment

0 Comments