थाली में क्यों नहीं परोसी जाती 3 रोटियां , आज ही जान लें इसके पीछे की वजह

कल्याण आयुर्वेद- वैसे आपने कई बार देखा होगा कि अगर हम अपनी थाली में एक साथ 3 रोटियां परोस लेते हैं तो घर के बड़े- बुजुर्ग हमें जरूर मना करते हैं. दरअसल इसे अशुभ माना जाता है. हमें तीन रोटियां एक साथ नही लेनी चाहिए. लेकिन क्या आप इसके पीछे की वजह जानते हैं. अगर नहीं तो आज के इस पोस्ट में हम आपको इसके पीछे का कारण बताएंगे.

थाली में क्यों नहीं परोसी जाती 3 रोटियां , आज ही जान लें इसके पीछे की वजह
तो आइए जानते हैं विस्तार से-

ध्यान देने वाली बात तो यह है कि हमें किसी की भी थाली में एक साथ तीन रोटियां नही परोसनी चाहिए. अगर किसी को इसकी जरूरत पड़ भी जाये तो तीसरी रोटी को 2 टुकड़ों में बांट कर दे सकते हैं. जिससे की रोटी भी दो टुकड़ों में बंटकर इसकी संख्या चार हो जाती है. इसलिए आप ऐसा कर सकते हैं.

वैसे आप भी आज तक सोचते आये होंगे कि आखिर क्यों एक साथ तीन रोटियां नही परोसनी चाहिए. तो चलिए आज हम आपको बता देते हैं इसके पीछे का कारण.

दरअसल ज्योतिषशास्त्र के अनुसार हिन्दू धर्म के मान्यता लोगों के लिए 3 संख्या अशुभ मानी जाती है. इसीलिए किसी भी शुभ कार्य मे 3 संख्या का विशेष ध्यान दिया जाता है. किसी भी शुभ कार्य मे तीन वस्तुओं का प्रयोग नही किया जाता है.

यही नियम रोटी परोसने के पहले भी पालन किया जाता है. ऐसा माना जाता है कि खाने में तीन रोटियां किसी वस्तु के मृत्यु के बाद उसके त्रयोदशी संस्कार से पहले निकाले जाने वाले भोजन में ली जाती है. जिसे भोजन निकालने वाले व्यक्ति के अलावा कोई और नहीं देखता. 

यदि कोई व्यक्ति तीन रोटियां खाता है तो उसके भोजन को मृतक के भोजन के समान माना जाता है. कहा जाता है कि तीन रोटियों का सेवन करने से आपके मन मे शत्रुता का भाव उतपन्न होता है.

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताइये और अगर जानकारी अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक तथा शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments