कही मिल जाए यह पौधा तो जरुर ले आएं घर, फायदे जानकर चौंक जायेंगे

 

नाम - कुकरौंधा

वानस्पतिक नाम - ब्लूमिया लॅसेरा

कुकरौंधा के फायदे और उपयोग
कुकरौंधा के फायदों को देखते हुए इसे औषधि समान माना गया है. आंखों से जुड़े रोग, बवासीर, पेट में कीड़े पड़ने जैसी समस्याओं के इलाज में यह जड़ी-बूटी बहुत ही असरकारक है. आइये जानते हैं कि अलग अलग बीमारियों में कुकरौंधा का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए।

बालों को सफ़ेद होने से रोकता है कुकरौंधा
कम उम्र में ही बाल सफेद होने से अधिकांश लोग परेशान रहते हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कुकरौंधा के उपयोग से आप सफेद बालों की समस्या से निजात पा सकते हैं. इसके लिए कुकरौंधा के एक भाग में उसका 4 गुना मात्रा में पानी मिलाकर इसका काढ़ा बना लें. इस काढ़े से नियमित रूप से बालों को धोएं, इससे बाल सफेद होने की समस्या में कमी आती है।

आंखों से जुड़े रोगों में लाभकारी है कुकरौंधा
आंखों से जुड़ी समस्याएं जैसे कि आंखें लाल होना, आंखों में दर्द आदि के लिए आप कुकरौंधा का इस्तेमाल कर सकते हैं. कुकरौंधा की पत्तियों के रस में फिटकरी को घिसकर आंखों में काजल की तरह लगाएं. इससे आंखें लाल होने की समस्या दूर होती है.

2-2 बूंद कुकरौंधा की पत्तियों के रस को आंखों में डालने से आंखों का दर्द दूर होता है।

मुंह सूखने की समस्या ठीक करता है कुकरौंधा
मुंह में सूखेपन की समस्या होने पर कुकुन्दर की ताजी जड़ को मुंह में रखकर चबाएं या जड़ का काढ़ा बनाकर उससे गरारा करें। ऐसा करने से मुंह का सूखापन खत्म होता है.

पेट के कीड़ों को खत्म करता है कुकरौंधा
5 मिली कुकरौंधा की पत्तियों के रस में बराबर मात्रा में शहद मिलाकर खिलाने से पेट के कीड़े खत्म होते हैं और कफ से जुड़े रोगों से भी आराम मिलता है।

हैजा और दस्त से आराम दिलाता है कुकरौंधा
1-2 ग्राम कुकुन्दर की जड़ का चूर्ण या 5-10 मिली कुकरौंधा की पत्तियों के रस में काली मिर्च पाउडर मिलाकर सेवन करने से हैजा और दस्त में आराम मिलता है।

आंतों के रोगों को ठीक करता है कुकरौंधा
आंतों से संबंधित रोगों के इलाज में भी यह जड़ी-बूटी बहुत कारगर है. इसके लिए 1-2 ग्राम कुकरौंधा की पत्तियों के चूर्ण को रोजाना सुबह शाम छाछ के साथ लें. इसके सेवन से कुछ ही हफ़्तों में आंतों के रोगों में लाभ मिलता है.

बवासीर के इलाज में उपयोगी है कुकुंदर
2 ग्राम कुकरौंधा के पत्तों में बराबर मात्रा में काली मिर्च और गेंदे की पत्तियां पीसकर पानी में घोलकर पिलाने से बवासीर में फायदा मिलता है।

अगर आप खूनी बवासीर से पीड़ित हैं तो 5-10 मिली कुकरौंधा की पत्तियों के रस में मिश्री और काली मिर्च का चूर्ण (500 मिग्रा) मिलाकर पिएं. इससे खूनी बवासीर में फायदा मिलता है।

कुकरौंधा के पत्तों को पीसकर बवासीर के मस्सों पर लगाने से आराम मिलता है.
लीवर से जुड़े रोगों के इलाज में कुकरौंधा के फायदे
कुकरौंधा पञ्चाङ्ग को फल के साथ पीसकर 250 मिग्रा की गोलियां बना लें. रोजाना सुबह शाम 1-1 गोली को एलोवेरा जूस के साथ पीने से लीवर से जुड़े रोगों के इलाज में मदद मिलती है।

स्तनों की सूजन दूर करता है कुकरौंधा
कुकरौंधा के पत्तों को पीसकर उसमें जौ का आटा मिलाकर गुनगुना करके स्तनों में लगाएं. इसे लगाने से स्तनों की सूजन कम होती है. कुकरौंधा की पत्तियों में शहद मिलाकर लगाने से त्वचा संबंधी रोगों में लाभ मिलता है।

कुकरौंधा की पत्तियों में बराबर मात्रा में मूली बीज मिलाकर पीसकर लगाने से कुष्ठ में लाभ होता है।

फोड़े- फुंसी को ठीक करता है कुकुंदर
कुकरौंधा की पत्तियों के रस में सफेद खदिर को पीसकर लगाने से फोड़े-फुंसियाँ ठीक हो जाते हैं। इसी तरह कुकरौंधा की पत्तियों को पीसकर घाव पर लगाने से घाव से खून बहना रूक जाता है.

बुखार ठीक करने के लिए करें कुकरौंधा का उपयोग
अगर आपको ठंड लगने के साथ बुखार की समस्या है तो कुकरौंधा की पत्तियों के रस की 2-2 बूंदें कान में डालें. ऐसा करने से ठंड वाला बुखार से जल्दी आराम मिलता है।

सूजन कम करने के लिए कुकरौंधा के फायदे
कुकरौंधा के पत्तों को पीसकर, गुनगुना करके सूजन वाली जगह पर लगाएं। इसे लगाने से सूजन कम होती है।

बिस्तर पर पेशाब करने की समस्या ठीक करता है कुकंदर
5 मिली कुकरौंधा की पत्तियों के रस में 65 मिग्रा कपूर मिलाकर पिलाने से बिस्तर पर पेशाब करने की समस्या में फायदा मिलता है।


Post a Comment

0 Comments