जानें- वेजाइना ( योनि )में खुजली होने के कारण और बचाव के तरीके

कल्याण आयुर्वेद- वेजाइना शरीर का सबसे अहम और नाजुक हिस्सा होता है इसलिए महिलाओं को अपने शरीर के साथ- साथ वेजाइना की भी देखभाल अच्छी तरह से करनी चाहिए. इसकी साफ-सफाई का खास ध्यान रखना चाहिए. वेजाइना की अच्छी से सफाई न करने और कुछ बातों को नजरअंदाज करने से वहां पर बैक्टीरिया पनपने लगते हैं जिससे इंफेक्शन और खुजली की समस्या होने लगती है. अक्सर महिलाओं को लगता है कि यीस्ट इंफेक्शन के कारण योनि में खुजली हो रही है. लेकिन इसके अलावा भी बहुत से ऐसे कारण है जिसके वजह से योनि में खुजली होने लगती है.

जानें- वेजाइना ( योनि )में खुजली होने के कारण और बचाव के तरीके

तो आज हम आपको कुछ वैसे कारणों के बारे में बताएं जिसके वजह से वैजाइना में खुजली हो सकती है?

* योनि में खुजली का कारण रेजर का इस्तेमाल और कसी हुई पेंटी पहनना हो सकता है. इसलिए इससे बचने के लिए आपको 5 बार यूज किए हुए रेजर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. इसके अलावा जब भी रेजर का इस्तेमाल करें तो रेजर को एंटीसेप्टिक घोल से जरूर धोएं. वही रात को सोते समय कसी हुई पेंटी की जगह कुछ ढीला- ढाला कपड़ा पहनें.

* अगर आपको योनि के आसपास अधिक पसीना आता है तो उसके कारण की वेजाइना में खुजली हो सकती है. ऐसे में जब भी आपको ज्यादा पसीना आए तो तुरंत नहाकर अपने कपड़े बदल लें. इसके अलावा अपनी वेजाइना को गिला नहीं बल्कि सुखा रखें. साथ ही कभी गिला पेंटी न पहनें.

* पार्टनर के साथ शारीरिक संबंध बनाते समय अगर आपने कोई नया लुब्रिकेट इस्तेमाल किया है तो उसके कारण वेजाइना में खुजली हो सकती है. कुछ लुब्रिकेंट्स में मौजूद अल्कोहल और लेटेक्स अक्सर वेजाइना में खुजली और एलर्जी का कारण बन सकती है. इसलिए कुछ भी नया ट्राई करने से पहले इस बारे में डॉक्टरी सलाह जरूर लें.

* मेनोपॉज के दौरान महिलाओं का एस्ट्रोजन पर काफी कम हो जाता है और वेजाइना का पीएच बैलेंस भी बदल जाता है. ऐसे में वेजाइना की दीवारें पतली और ड्राई हो जाती है जो आमतौर पर खुजली का भी कारण बन जाता है. इसे वेजाइनल अट्रोफी खा जाता है. आपको डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए.

* शायद किसी महिला को पता न होगी योनि की सफाई के लिए साबुन का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं करना चाहिए क्योंकि यह बैक्टीरियल बैलेंस बिगाड़ कर खुजली की समस्या उत्पन्न करता है. अगर आप साबुन इस्तेमाल करना चाहती हैं तो इसके लिए बिना खुशबू वाला और अच्छी कंपनी का साबुन ही प्रयोग में लाएं.

* बैक्टीरिया के इंफेक्शन से होने वाला या वेजाइनल इनफेक्शन महिलाओं में काफी आम होता है. यह महिलाओं को किसी भी उम्र में हो सकता है. लेकिन 25 से 35 साल की उम्र की महिलाओं को इसका खतरा अधिक होता है. इसके कारण भी योनि में खुजली होना आम बात है. इसमें खुजली के साथ-साथ ग्रे कलर का डिस्चार्ज भी आता है. ऐसे लक्षण दिखने पर आपको डॉक्टरी सलाह तुरंत लेनी चाहिए.

* यीस्ट इंफेक्शन के कारण वेजाइना मे खुजली होना आम बात है. इन्फेक्शन के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टरी सलाह लें क्योंकि समय पर इलाज न करवाने से यह किसी गंभीर समस्या का ले सकती है.

वेजाइना मे खुजली को दूर करने के घरेलू उपाय-

1 .1 लीटर पानी में 3 बड़े चम्मच सेब का सिरका मिलाकर योनि को साफ करें. इससे वेजाइना की खुजली दूर हो जाती है.

2 .नीम के पत्तों को पानी में उबालकर योनि की सफाई करने से भी खुजली की समस्या से निजात मिलती है.

3 . टी ट्री आयल एक प्राकृतिक फंगल क्लींजर है आप टी ट्री आयल की कुछ बूंदे पर लगाकर 4 घंटे के लिए अपनी योनि पर लगाए रखें. इससे खुजली की समस्या दूर हो जाएगी.

4 .गेंदे के पत्तों को सबसे पहले हल्के हाथ से क्रश करें. अब उन क्रश किए गए पत्तों योनि के प्रभावित क्षेत्रों पर लगाए. पूरे दिन में दो से तीन बार इन पत्तों का उपयोग करें.

5 .अरंडी के तेल का प्रयोग करके भी इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं. आपको अगर खुजली की वजह से योनि में दर्द व सूजन आ गई है या घाव हो गया है तो अरंड के तेल को हल्का गुनगुना करके हुई में भिगोकर जहां एक परेशानी है वहां लगाएं. आपको 1 सप्ताह में ही फायदा मिलेगा.

नोट- यह शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है किसी भी प्रयोग से पहले आप डॉक्टरी सलाह अवश्य लें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments