शोध- किडनी रोगियों पर भारी पड़ सकता है कोरोना संक्रमण

कल्याण आयुर्वेद- कोरोनावायरस (कोविड- 19)उन लोगों के लिए अधिक परेशानी खड़ी कर रहा है जो पहले से ही किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं. एक नए अध्ययन से पता चला है कि किडनी की समस्या से पीड़ित लोगों पर यह खतरनाक वायरस ज्यादा भारी पड़ सकता है?

शोध- किडनी रोगियों पर भारी पड़ सकता है कोरोना संक्रमण

कोरोना संक्रमण के चलते ऐसे लोगों को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ सकती है. इस तरह के मामलों में क्रॉनिक किडनी डिजीज प्रमुख कारक बनकर उभरा है. क्रॉनिक किडनी डिजीज रोग का एक प्रकार से बुजुर्गों में आमतौर पर होने वाली बीमारी है. इस बीमारी के चलते किडनी धीरे-धीरे काम करना बंद कर देती है.

अमेरिकी शोधकर्ताओं के अनुसार यह निष्कर्ष 12971 लोगों पर किए गए. एक अध्ययन के आधार पर निकाला गया कि जो गत 7 मार्च से 19 मई के दौरान कोरोना पोजिटिव पाए गये थे. इनमें से पीड़ितों को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ी थी.

शोधकर्ताओं ने किडनी, श्वसन, ह्रदय और स्वास्थ्य संबंधी दूसरी स्थितियों को लेकर विश्लेषण किया था. उन्होंने अस्पताल में भर्ती होने और क्रॉनिक किडनी डिजीज के बीच गहरा संबंध पाया.

शोधकर्ताओं ने कहा है कि कोरोना की चपेट में आने वाले सामान्य लोगों की तुलना में किडनी रोग से जूझ रहे लोगों को अस्पताल में भर्ती किए जाने का खतरा 11 गुना ज्यादा पाया गया.

अध्ययन के निष्कर्षों को पीएलओएस वन पत्रिका में प्रकाशित किया गया है. अमेरिका की जिसिंजर किडनी हेल्थ रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ता एलेक्स चांग ने कहा, हमारे नतीजों से जाहिर होता है कि किडनी रोग से जुड़े कोरोना पीड़ितों पर खास ध्यान देने की आवश्यकता है.

स्रोत- दैनिक जागरण.

Post a Comment

0 Comments