इस पेड़ को लोग इसलिए कहते हैं गाँव का दवाखाना

कल्याण आयुर्वेद- नीम थोड़े देर के लिए कडुआ जरुर लगता है लेकिन इसके हैरान करनेवाले फायदे होते है.नीम को गव का दवाखाना कहा जाता है क्योंकि नीम की फूल,पत्ते,फल,छाल और तना सभी औषधीय गुणों से भरपूर है जो कई रोगों के लिए फायदेमंद होते हैं.

इस पेड़ को लोग इसलिए कहते हैं गाँव का दवाखाना 
नीम को आयुर्वेद में हजारों वर्षों से कई रोगों के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है.नीम में बैक्टेरिया,वायरस और कई तरह के कीड़े मारने की क्षमता रहती है.नीम कई पुराने और जटिल रोगों का इलाज करता है. डायबिटीज,चर्मरोगों,बुखार जैसे कई पुराणी बिमारियों को दूर करने में आपकी मदद करता है.
आइये जानते हैं नीम के औषधीय गुणों के बारे में-
1 .डायबिटीज-नीम पत्ती का निकला हुआ अर्क डायबिटीज को नियंत्रित रखता है.
2 .कोलेस्ट्रोल-नीम की पत्तियों का सेवन करने से कोलेस्ट्रोल की समस्या दूर होती है.
3 .बबासीर-नीम के बीज को पाउडर बनाकर एक ग्राम की मात्रा में सुबह -शाम पानी के साथ खाने से बबासीर कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है.
4 .खून -नीम की पत्तियों को चबाकर खाने या नीम के छाल को क्वाथ बनाकर पिने से खून साफ होता है जिससे कई तरह के चर्मरोग दूर होती है.
5 .बालों की समस्या-नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर बाल धोने से रुसी.बाल झड़ना दूर होता है.
6 .दातों के लिए-नीम का दातुन करने से दातों के रोग दूर होते है दांत में कीड़े नही लगते हैं दातों में चमक आती है और दांत मजबूत होते है.
7 .कान दर्द-कान में दर्द होने पर नीम की पत्तियों का रस कान में डालने से दर्द दूर होता है.
इसलिए ही नीम को गावों का दवाखाना कहा जाता है. यह जानकारी अच्छी लगी हो तो लाइक, शेयर जरुर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments