जानें- अनचाहे गर्भ से बचने के प्राकृतिक घरेलू उपाय

कल्याण आयुर्वेद- जो महिला शारीरिक और मानसिक रूप से गर्भधारण के लिए तैयार नही है. उनके लिए यह जरुरी है कि सुरक्षित गर्भनिरोधक का उपाय करे.गर्भनिरोधक के लिए चिकित्सा में कई तरह के प्रभावी उपाय है. लेकिन उनके कई नुकसान भी है. इसके कई साइडइफेक्ट का खतरा बना रहता है.लेकिन अनचाहे गर्भ से बचना भी जरुरी होता है.

जानें- अनचाहे गर्भ से बचने के प्राकृतिक घरेलू उपाय 
कई बार ऐसा होता है कि पहले बच्चे से दूसरे बच्चे की बीच का अंतराल कम होने से माँ और बच्चे दोनों का स्वास्थ का नुकसान होने का खतरा बना रहता है. इसलिए दो बच्चों के बीच अंतराल रखना जरुरी होता है. ताकि महिला के शरीर में आवश्यक तत्वों की पूर्ति हो सके और गर्भधारण के लिए वह बिलकुल स्वस्थ हो क्योंकि स्वस्थ माँ ही स्वस्थ बच्चे का जन्म दे सकती है.

तो आइये जानते है अनचाहे गर्भ से बचने के प्राकृतिक घरेलू उपाय-

1 .कपास-कपास की जड़ की छाल गर्भ को रोकने में मददगार होता है. इसके लिए चाय या गरम पानी के साथ कपास की जड़ का छाल इस्तेमाल करना चाहिए.कपास की जड़ सेवन करने से हार्मोन ऑक्सीटोसिन छोड़ता है जिससे गर्भ नही हो पाता है.

2 .पपीता-असुरक्षित शारीरिक संबंध बनाने के बाद पपीता खाने से गर्भधारण नही होता है क्योंकि पपीता निषेचन नही होने देता है जिससे गर्भ ठहरने को रोकता है.

3 .नीम-प्राकृतिक तरीकों में नीम अनचाहे गर्भ से बचने का बढ़िया उपाय है. नीम को स्पर्म मोटिलीटी कम करने के लिए जाना जाता है. जिस कारण गर्भ में बच्चा बनाने की प्रक्रिया रुकने में मदद मिलती है. इसके लिए महिला को गर्भवती होने की आशंका होने पर नीम की पत्तिय चबाना चाहिए.

4 .अंजीर-अनचाहे गर्भ से बचने के लिए अंजीर आपकी मदद कर सकता है इसके लिए शारीरिक संबंध बनाने के बाद एक या दो अंजीर खाने से गर्भधारण नही हो पाता है.

यह पोस्ट शैक्षणिक उदेश्य से लिखा गया है किसी भी प्रयोग से पहले डॉक्टर से सलाह लें. धन्यवाद.

स्रोत- आयुर्वेद गाइड.

Post a Comment

0 Comments