जीवन में सुख- शांति चाहते हैं तो याद रखें चाणक्य की ये बातें

चाणक्य नीति- आचार्य चाणक्य ने चाणक्य नीति में मनुष्य के जीवन में घटित होने वाली घटनाओं के बारे में भी जिक्र किया है. चाणक्य को एक कुशल अर्थशास्त्री और नीतिज्ञ माना गया है.

जीवन में सुख- शांति चाहते हैं तो याद रखें चाणक्य की ये बातें

आचार्य चाणक्य ने चाणक्य नीति के माध्यम से मित्र, शत्रु की पहचान और जीवन के कुछ समस्याओं के समाधान के बारे में भी बताया है. साथ ही इसमें जीवन को सफल बनाने के साथ कुछ अहम बातें भी बताई गई है. चाणक्य नीति कहती है कि व्यक्ति को संयमी जीवन जीना चाहिए. अगर हम किसी से कुछ पाना चाहते हैं तो उससे विनम्र व्यवहार बनाए रखें.

आज हम आपको चाणक्य के द्वारा बताए गए कुछ बातें बताने वाले हैं जो आपके लिए काफी लाभदायक सिद्ध हो सकता है.

* उस महिला या पुरुष का हृदय पूर्ण नहीं है. वह बटा हुआ है जो एक दूसरे के साथ वफादार नहीं है. वे जब एक से बात करते हैं तो दूसरे की ओर वासना से देखते हैं और उनके मन में तीसरे का ख्याल होता है.

* आचार्य चाणक्य के अनुसार जो व्यक्ति गुणों से रहित होता है, लेकिन जिसकी लोग सराहना करते हैं. वह दुनिया में काबिल माना जा सकता है. लेकिन जो आदमी खुद की ही डींगे हाकता है वह अपने आप दूसरे की नजरों में गिर जाता है इसलिए व्यक्ति को अपने बारे में डींगे नहीं हाकना चाहिए.

* चाणक्य नीति के मुताबिक अगर एक विवेक संपन्न व्यक्ति अच्छे गुणों का परिचय देता है तो उसके गुणों की आभा को रत्न जैसी मान्यता मिलती है, एक ऐसा रत्न जो प्रज्वलित है और सोने में मढ़ने पर और चमकता है.

* आचार्य चाणक्य के अनुसार वह व्यक्ति सर्वगुण संपन्न है अपने आप को सिद्ध नहीं कर सकता, जब तक उसे समुचित संरक्षण नहीं मिल जाता है. उसी प्रकार जैसे एक मनी तब तक नहीं निखरती है जब तक उसे आभूषण में नहीं सजाया जाए.

* चाणक्य कहते हैं कि ऐसी दौलत किस काम की, जिसके लिए कठोर यातना सहनी पड़े या सदाचार का त्याग करना पड़े या फिर अपने शत्रु की चापलूसी करनी पड़े.

* आचार्य चाणक्य के अनुसार सभी परोपकार और तत्कालिक लाभ देते हैं. लेकिन सुपात्र को दिया गया दान और सभी जीवो को जो संरक्षण प्रदान किया जाता है उसका पुण्य कभी नष्ट नहीं होता है.

चाणक्य की बताई गई ये नीतियां आपको अच्छी लगे तो लाइक, शेयर जरूर करें. धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments