शनिवार के दिन खिचड़ी खाना क्यों माना जाता है अच्छा ? जानकर आप भी खाना शुरू कर देंगे

ज्योतिष शास्त्र- ज्योतिष शास्त्र में शनि ग्रह का विशेष महत्व है, वही शनिदेव को न्याय का देवता के रूप में भी जाना जाता है, लेकिन फिर भी लोगों के मन में शनि की छवि क्रोध बरसाने वाले देवता के रूप में बनी हुई रहती है. इसका मुख्य कारण यह है कि शनिदेव की साढ़ेसाती या बक्र दृष्टि ज्योतिष शास्त्र की माने तो मनुष्य के पूर्व और वर्तमान कर्मों के फल स्वरुप ही किसी के ऊपर शनि की साढ़ेसाती दशा हावी होती है.

शनिवार के दिन खिचड़ी खाना क्यों माना जाता है अच्छा ? जानकर आप भी खाना शुरू कर देंगे

शास्त्रों में शनि देव के बारे में ऐसा भी कहा गया है कि शनिदेव जिस मनुष्य से प्रसन्न होते हैं. उसके जीवन में सफलता आने से कोई नहीं रोक सकता है.

वही ज्योतिष शास्त्र में शनि देव को शांत रखने के लिए कुछ ऐसे उपाय बताए गए हैं. जिससे कि शनि के प्रभाव को कम किया जा सकता है और कष्टों से राहत पाई जा सकती है.

उन्हीं उपायों में से एक है शनिवार के दिन खिचड़ी खाना? तो आज हम आपको शनिदेव से जुड़ी कुछ बातें बताने जा रहे हैं.

चलिए जानते हैं विस्तार से-

जिस तरह शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए उन्हें सरसों में काला तिल डालकर अर्पित किया जाता है, ठीक उसी तरह काले तिल के सेवन से भी शनिदेव प्रसन्न होते हैं. इसलिए प्रत्येक शनिवार को काला तिल खाना चाहिए. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनिवार को गुलाब जामुन खाने से भी शनि देव शांत होते हैं और उनकी कृपा प्राप्त होती है.

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक शनिवार के दिन उड़द दाल वाली खिचड़ी का सेवन करना अच्छा माना गया है. इससे शनि दोष से राहत मिलती है. अगर जातक नियमित रूप से प्रत्येक शनिवार को खिचड़ी खाए तो शनिदेव की कृपा प्राप्त कर सफलता की ओर अग्रसर होता है.

अगर आपके हर काम में बाधा आती है तथा जीवन में आर्थिक तंगी बनी रहती है तो आप प्रति शनिवार खिचड़ी का सेवन करें. यह आपके लिए फलदायक सिद्ध होगा.

शनिवार के दिन खिचड़ी खाने से ग्रहों की चाल अच्छी रहती है. जिससे मनुष्य के जीवन में उतार-चढ़ाव नहीं आता है.

शनिवार के दिन खिचड़ी खाने से संतान सुख की प्राप्ति होती है और होने वाला बच्चा भी तंदुरुस्त रहता है.


Post a Comment

0 Comments