सुबह उठते ही नाभि में लगा लें यह छोटी सी चीज, इतना धन बरसेगा की संभाल नहीं पाएंगे एक बार आजमाकर तो देखें

ज्योतिष शास्त्र- वैसे तो मनुष्य के शरीर का हर हिस्सा व महत्वपूर्ण होता है. लेकिन आज हम बताने जा रहे हैं पेट के बीच में स्थित नाभि के बारे में जो मानव शरीर के अंगों में से एक है. वैसे नाभि को लेकर काफी भ्रम लोगों में फैलाया जाता है. इतना ही नहीं शास्त्रों में भी नाभि की स्थिति की व्याख्या मिलती है. वही आपको बता दे कि हर कोई यह चाहता है कि उसे इतना पैसा मिले कि वह एक अच्छी जिंदगी जी सके. लेकिन हर किसी की इच्छा पूरी नहीं हो सकती है.

सुबह उठते ही नाभि में लगा लें यह छोटी सी चीज, इतना धन बरसेगा की संभाल नहीं पाएंगे एक बार आजमाकर तो देखें

लेकिन शास्त्रों में कुछ ऐसे टोने- टोटके बताए गए हैं जिसका इस्तेमाल किया जाए तो रंक भी राजा बन सकता है?

हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि पूजा- पाठ में इत्र का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन साथ ही इत्र का प्रयोग लोग बाहर जाते समय खुशबू के लिए करते हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि अगर आप घर से बाहर जाने से पहले अपनी नाभि पर जरा सा इत्र लगाते हैं तो आपकी एक रात में किस्मत बदल सकती है. जी आपको यह बात विश्वास नहीं हो रहा होगा लेकिन यह सच है.

दरअसल हम आपको बता दें कि अगर आप घर से निकलते समय अपनी नाभि पर जरा इत्र लगा लेते हैं तो ऐसा करने से आपकी किस्मत बदल जाएगी. लेकिन इस उपाय को करते समय ध्यान रहे यह इत्र आपके पैसे का खरीदा हुआ हो. इस उपाय को करने के लिए सबसे पहले आप सुबह उठकर नहाने के बाद पूजा पाठ करके सारे काम खत्म कर खाना खाने से पहले आप नाभि पर इत्र लगा लें.

आपको बता दें कि शुक्र ग्रह और इत्र गहरा संबंध है. इससे जुड़े उपाय करने से आर्थिक पक्ष मजबूत होता है. समाज में मान- सम्मान बढ़ेगा और स्वास्थ्य से संबंधित बहुत सारे लाभ प्राप्त होंगे. प्रतिदिन घर से निकलते समय अपनी नाभि में चंदन, गुलाब व मोगरे का इत्र लगाएं. इससे सम्पन्नता और वैभव बढ़ता जाएगा. चंदन व मोगरे का इत्र नाभि में लगाने से सिर्फ भाग्य ही नहीं बदलता है बल्कि माइग्रेन, सिरदर्द, क्रोध और नींद से भी संबंधित समस्याएं दूर हो जाती है.

आपको बता दें कि शुक्र को मजबूत करने के लिए साफ- सफाई, अच्छी चीजों से और खुशबूदार वस्तुओं का प्रयोग करना चाहिए. इस ग्रह की वजह से जीवन में सुख शांति आती है और यही कारण है कि लोग आपकी तरफ आकर्षित होते हैं. आज भले ही लोग इत्र को अपने प्रसाधन के रूप में इस्तेमाल कर रहे हो, पर इसकी उपयोगिता आज भी हमारे मन एवं आत्मा में सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव देती है.

Post a Comment

0 Comments