जानें- हिचकी दूर करने के रामबाण घरेलू उपाय

कल्याण आयुर्वेद- हिचकी एक सामान्य समस्या है जो किसी भी व्यक्ति को हो सकती है. बार- बार हिक- हिक करती हुई यकृत तथा तिल्ली आंतों को खींचकर मुंह में लेती हुई ऐसी उदान वायु, प्राणवायु के साथ मिलाकर उर्ध्व गति से चलती है और कफ का अनुसरण हो प्राणियों के जीवन का नाश कर देती है. ऐसा शब्द करने के कारण इसको हिक्का नाम से भी जानते हैं.

चलिए जानते हैं हिचकी दूर करने के घरेलू उपाय-

1 .सोठ डाल कर पकाया हुआ बकरी का दूध पीने से हिचकी से राहत मिलती है.

2 .पीपल, मुनक्का तथा नगरमोथा का चूर्ण शहद के साथ चाटने से हिचकी से राहत मिलती है.

3 .नींबू का रस, शहद तथा काला नमक मिलाकर सेवन करने से हिचकी से राहत मिलती है.

4 .रेणुका, पीपल, इनके चूर्ण का क्वाथ बना लें. तत्पश्चात हींग डालकर पीने से निश्चय ही हिचकी बंद हो जाती है.

5 .मैनसिल, गाय का सींग अथवा कूट या राल, कुश का धूम्रपान लेने से हिचकी से राहत मिलती है.

6 .मूंगा, शंख, हरड़, बहेड़ा, आंवला, पीपल तथा गेरू इन का चूर्ण कर तथा घी में मिलाकर चाटने से हिचकी तुरंत बंद हो जाती है.

7 .कांस की जड़ को पीसकर शहद के साथ मिलाकर चाटने से दुसाध्य हिचकी भी शांत हो जाती है.

8 .महिला के दूध में लाल चंदन घिस कर नस्य लेने से, यानी नाक से सूंघने से हिचकी से राहत मिलती है.

9 .मोर के पंख के चंदे को जलाकर शहद के साथ चाटने से हिचकी बंद होती है.

10 .मुलेठी,शहद अथवा पीपल मिश्री अथवा सोठ गुड इन तीनों में से किसी एक का नश्य लेने से हिचकी दूर होती है.

11 .पीपल का चूर्ण शहद में मिलाकर चाटने से ज्वर से उत्पन्न हुई हिचकी बंद हो जाती है.

Post a Comment

0 Comments