एक ऐसा पौधा जिसे लकवा में खाने से और मिर्गी में सूंघने हो जाती है ठीक, जानें उस पौधे के बारे में

कल्याण आयुर्वेद- प्रकृति ने इस धरती पर कई ऐसे पेड़-पौधे को जन्म दिया है. जिसके सेवन से ही नही बल्कि नाक के पास ले जाते ही कई रोग छूमंतर हो जाते हैं. हालाँकि अगर बीमारी की बात करें तो इस दुनियां में हर किसी के पास कोई न कोई बीमारी होती है. किसी को साधारण बीमारी तो किसी को जटील बीमारी होती है.जैसे की लकवा और मिर्गी यह बीमारी लगभग असाध्य होती है.यानि जल्दी ठीक नही होती है और कुछ लोगों को तो ठीक ही नही होती है.यह बीमारी जब एक बार लग जाती है तो पुरे जिंदगी ठीक नही होती है.

google-Copyright Holder: Kalyan ayurved
दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से एक ऐसे पौधे के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसके खाने से लकवा और सूंघने से मिर्गी ठीक हो जाती है.इस पौधे का नाम है अकरकरा.
google-Copyright Holder: Kalyan ayurved
लकवा के लिए अकरकरा का इस्तेमाल-
दोस्तों, आपकी जानकारी के लिए बता दें की यह बीमारी कई तरह का होता है.किसी को एक तरफ का पूरा अंग निष्क्रिय हो जाता है.तो किसी को फेसियल यानि चेहरे का लकवा हो जाता है.जिससे चेहरे का आधा भाग टेढ़ा हो जाता है.इस बीमारी में किसी किसी को दर्द भी होता है.उस तरफ का अंग सूखने लगता है.यह बीमारी होने के लिए तो किसी की हो सकती है.लेकिन ज्यादातर मधुमेह,उच्च रक्तचाप कोलेस्ट्रोल जमना से पीड़ित लोगों को होती है.इसके लिए अकरकरा बहुत ही गुणकारी औषधि है.
google-Copyright Holder: Kalyan ayurved
लकवा में अकरकरा को इस्तेमाल करने की विधि-
20 ग्राम पिसा हुआ अकरकरा और 25 ग्राम मुनक्का का बीज लेकर दोनों को जरुरत के अनुसार पानी से पिस लें और एक चने के बराबर गोलियां बना लें.इस गोली को गुनगुने पानी से एक-एक गोली सुबह- शाम सेवन करने से लकवा ठीक हो जाता है.
मिर्गी-दोस्तों,यह रोग किसी को भी हो सकती है.महिला हो या पुरुष.उसमे कोई उम्र मायने नही रखता है.इस बीमारी में एक एक आखों के सामने अँधेरा छा जाता है और आदमी गिर पड़ता है.मुंह से झाग आने लगता है.भौहें फड़कने लगती है.शरीर में कंपन होने लगता है.उसे किसी तरह का होश नही रहता है.यह 1 मिनट से लेकर घंटों तक रह सकता है.इसका कोई टाइम नही होता है कितनी देर तक रहेगा.इसका कोई समय भी नही होता है कभी भी हो सकता है.इसलिए मिर्गी से ग्रसित लोगों को पानी,आग,साइकिल चलने आदि से दूर रहने की सलाह दी जाती है क्योंकि मिर्गी का दौरा कभी भी आ सकता है और रोगी को नुकसान हो सकता है.
google-Copyright Holder: Kalyan ayurved
दोस्तों,इसके लिए अकरकरा के पाउडर को सुंघाया जाता है.इसके सूंघने से मिर्गी ठीक हो जाती है.
दोस्तों,हम आशा करते हैं कि यह जानकारी अच्छी लगी होगी.कृपया कमेन्ट कर जरुर बताएं.और इसे शेयर करना न भूलें.क्योंकि आपके द्वारा किसी को फायदा हो जाए.और ऐसी ही बिमारियों से जुडी जानकारी पाने के लिए हमे फॉलो करना न भूलें.धन्यवाद.
आयुर्वेद चिकित्सक-डॉ.पी.के.शर्मा.

Post a Comment

0 Comments