मधुमेह रोगी कुछ इस तरह बनाए अपने दैनिक चार्ट, पूरी जिंदगी रहेंगे स्वस्थ

कल्याण आयुर्वेद- आज के समय में मधुमेह यानी ब्लड शुगर होना आम बात हो गया है. इस बीमारी से काफी लोग ग्रसित हो रहे हैं, और सबसे खास बात तो यह है कि मधुमेह जिसे एक बार हो जाता है पूरी जिंदगी साथ नही छोड़ता है इसलिए खानपान और रहन- सहन में बदलाव करना जरुरी हो जाता है. जब ब्लड में शुगर लेबल अधिक होता है तो डायबिटीज होती है. ऐसे में बार-बार प्यास लगने, पेशाब आने, आंखों की रोशनी में  परिवर्तन और ज्यादा भूख लगने जैसी समस्या शुरू हो जाती है. इस बीमारी की वजह से व्यक्ति का अग्नाशय सही से इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता है. वही इस तरह के समस्या ज्यादा समय तक रहती है तो रोगी कई तरह की बीमारियों से ग्रसित होने लगता है.

मधुमेह रोगी कुछ इस तरह बनाए अपने दैनिक चार्ट, पूरी जिंदगी रहेंगे स्वस्थ

डॉक्टरों के अनुसार मधुमेह रोगियों के लिए शारीरिक गतिविधि और पोषण के साथ ही एक सेहतमंद रहन-सहन का होना भी जरूरी हो जाता है. इसके अलावा मधुमेह से ग्रसित रोगी स्वस्थ खानपान अपनाकर और सक्रिय रहकर खुद ब खुद ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रण में रख सकता है. इसके लिए आपको शारीरिक गतिविधियों सेहतमंद भोजन और मधुमेह की दवाइयों में ठीक संतुलन बनाने की जरूरत है. मधुमेह रोगी कब कितना और क्या खाता है यह सभी उनके रक्त ग्लूकोज को लेबल में रखने के लिए खास भूमिका निभाते हैं क्योंकि खान-पान का प्रभाव मधुमेह रोगियों पर तुरंत पड़ता है.

हालांकि, मधुमेह रोगियों के लिए शारीरिक तौर पर ज्यादा सक्रिय रहना और अपने भोजन में बदलाव करना शुरुआत में थोड़ा कठिन हो सकता है. लेकिन थोड़े समय बाद आप इन बदलाव को अपने लाइफ स्टाइल में जोड़कर स्वस्थ बने रह सकते हैं.

आज हम इस पोस्ट के माध्यम से मधुमेह रोगियों के लिए आहार और शारीरिक गतिविधियों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप इस समस्या से राहत पा सकते हैं.

स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं कि मधुमेह रोगी अपने पसंद का हर खाद पदार्थ का सेवन कर सकते हैं. लेकिन उन्हें छोटे भाग खाने में आनंद लेने की जरूरत हो सकती है. आपको अपने आहार में भोजन की योजना की रूपरेखा में सभी खाद्य समूह से अलग-अलग तरह के स्वस्थ खाद पदार्थ खाने होंगे.

डायबिटीज रोगियों के लिए आहार चार्ट-

* मधुमेह के आहार में अगर सब्जियों की बात करें तो आप टमाटर, गाजर, ब्रोकली, साग और मीट शामिल करें. यह सभी सब्जियां नॉन स्टॉर्च मानी जाती है, जबकि स्तार्ची सब्जियों में आप मक्का, आलू और हरी मटर साबित करें.

* फलों में आप तरबूज, संतरा, सेब, जामुन, अंगूर और केला को शामिल करें.

* अनाज में दिन के समय न्यूनतम आधा साबुत अनाज होना चाहिए. इसमें आप चावल, गेहूं, जई, जौ, कोर्नमिल और क्नोवीवा शामिल कर सकते हैं.

* प्रोटीन में आप दही, पनीर, मूंगफली, अंडे, बिना त्वचा का चिकन, मछली, दुबला मांस, मांस में टोफू का सेवन कर सकते हैं.

* सरसों के तेल कैनोला और जैतून के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं.

मधुमेह रोगी करें इन चीजों से परहेज-

* कैंडी, आइसक्रीम और मिठाई से दूरी बनाकर रखें.

* सोडियम यानी अधिक नमक वाली चीजों के सेवन से परहेज करें.

* ट्रांस वसा और असंतृप्त वसा वाला भोजन और अन्य खाद्य पदार्थ ना खाए.

* मीठा शरबत जैसे सोडा, सिकंजी, जूस और खेल और उर्जा वाली ड्रिंक्स.

 * शराब के सेवन से बचें, अगर करते हैं तो अधिक मात्रा में ना पिएं.

भोजन योजना के तरीके-

प्लेट विधि और कार्बोहाइड्रेट की गिनती को कार्ब काउंटिंग भी कहा जाता है. यह भोजन करने के दो सामान्य तरीके हैं. डॉक्टरों के अनुसार प्लेट विधि का तरीका लंच और डिनर के लिए काफी अच्छा माना जाता है. इसमें आपको कैलोरी गिनने की जरूरत नहीं होती है. इसमें आपने द्वारा खाए जाने वाले हर भोजन के समूह की मात्रा को दर्शाया जा सकता है.

प्लेट विधि- प्लेट विधि कैसे तरीके को अपनाने के लिए आपको 9 इंच की प्लेट का इस्तेमाल करना है. इस प्लेट के आधे भाग पर नॉनस्टार्च सब्जियां डालें. वही प्लेट एक चौथाई भाग पर एक मांस या अन्य प्रोटीन डालें. जबकि पिछले एक चौथाई एक अनाज या अन्य स्टाफ सब्जी शामिल करें. इसमें आप एक छोटा कटोरा भर इसका एक टुकड़ा भी डाल सकते हैं. इसके साथ ही एक गिलास दूध भी शामिल करें. अपने दैनिक भोजन के बीच के समय यानी सामने आप छोटे स्नेक्स भी शामिल कर सकते हैं.

कार्बोहाइड्रेट की गिनती-

आप प्रतिदिन जो कार्बोहाइड्रेट खाते हैं वह कार्बोहाइड्रेट की गिनती में आता है. आपके शरीर में कार्बोहाइड्रेट ग्लूकोज में बदलता है और यह आपके ब्लड शुगर के लेवल को दूसरे खाद पदार्थों से अधिक प्रभावित करता है. कार्बोहाइड्रेट की गिनती से आप ब्लड शुगर के स्तर का प्रबंधन कर सकते हैं. इंसुलिन लेने वाले मरीजों के लिए कार्बोहाइड्रेट की गिनती यह पता करने में मदद कर सकती है कि इंसुलिन कितना लेना चाहिए. कार्बोहाइड्रेट की सही मात्रा होना, आपके परहेज, शारीरिक रूप से सक्रिय और सही समय पर दवाई खाना निर्भर करता है.

आपको बता दें कि कार्बोहाइड्रेट की मात्रा को खाद पदार्थों ग्राम में मापा जाता है. ऐसे में अपने पूरे दिन के खाने में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा को शामिल करें. ज्यादा कार्बोहाइड्रेट, स्टार्च, दूध, फल और मिठाई से मिलता है. शर्करा या सफेद ब्रेड और सफेद चावल जैसे परिष्कृत अनाजों में भी कार्बोहाइड्रेट होता है. लेकिन इन सब चीजों को मधुमेह के मरीजों को खाने से परहेज करना चाहिए. इसके बजाय आप फल, सब्जियां, साबुत अनाज और कम वसा वाला नोन फैक्ट्स दूधवाले कार्बोहाइड्रेट भोजन का सेवन कर सकते हैं.

शारीरिक तौर पर रहें सक्रिय-

मधुमेह रोगियों के लिए शारीरिक गतिविधि यानी एक्सरसाइज करना बहुत आवश्यक है. इसकी मदद से आप के ब्लड शुगर के स्तर को प्रतिबंधित करने और सेहतमंद रहा जा सकता है. शारीरिक गतिविधि से मधुमेह के मरीजों को कई लाभ होते हैं. ब्लड प्रेशर कम, ब्लड शुगर का स्तर कम, ब्लड प्रवाहन में सुधार, मूड में सुधार, वजन कम करने में मदद, बुड्ढे लोगों में याददाश्त में सुधार और अच्छी नींद शामिल है.

प्रत्येक सप्ताह अलग-अलग तरह की शारीरिक गतिविधियों को अपनाना आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है. ऐसे में आप इससे उबेंगे भी नहीं और चोट लगने की संभावना भी काफी कम हो सकती है.

शारीरिक गतिविधियों के लिए आप इन विकल्पों को अपना सकते हैं-

* सुबह जल्दी उठकर टाइम पास करने के लिए मॉर्निंग वॉक जरूर करें, इस दौरान दो-तीन किलोमीटर टहलें.

* फोन पर बात करने के दौरान टहलें.

* यदि आप टीवी देख रहे हैं तो इस दौरान विज्ञापन आने पर टहलें.

* घर गार्डन या कार की सफाई करने के लिए नौकर रखने के बजाय आप खुद करें.

* पार्क में शाम या सुबह के समय टहलने जाएं, घर के बच्चों के साथ आउटडोर गेम्स खेलें.

* टेनिस बास्केटबॉल या अन्य खेल खेलें.

* लंबी पैदल यात्रा पर चलें.

* साइकिल या स्थिर साइकिल की सवारी करें.

* आप गाने सुनना पसंद करते हैं तो इस दौरान आप डांस भी कर सकते हैं. यह भी आपके लिए एक्सरसाइज की तरह कारगर होगा.

यानि कुल मिलाकर खानपान और शारीरिक सक्रियता को अपने जीवन में शामिल कर डायबिटीज को नियंत्रित रख सकते है और स्वस्थ रह सकते हैं.

नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है, अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर और डाइटिशियन की सलाह जरूर लें, धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments