जो लोग प्रत्येक गुरुवार को करते हैं यह काम, कभी नहीं होती है धन- दौलत की कमी

धर्म डेस्क- हर किसी की चाहत होती है कि उसे किसी चीज की कमी ना हो और ऐसो आराम की जिंदगी जी सकें. इसके लिए वह दिन- रात मेहनत भी करता है, लेकिन कुछ लोग तो मेहनत के बाद सफलता हासिल कर लेते हैं. वहीँ कुछ लोग कड़ी मेहनत के बाद भी सफल नहीं हो पाते हैं. अगर शास्त्रों की माने तो जिनका बृहस्पति कमजोर होता है उन्हें धन- दौलत और सुख समृद्धि नहीं मिल पाती है. इसलिए उन्हें बृहस्पतिवार को कुछ उपाय करने चाहिए. जिससे उनका बृहस्पति मजबूत हो और उन्हें सुख- समृद्धि की प्राप्ति हो सके.

जो लोग प्रत्येक गुरुवार को करते हैं यह काम, कभी नहीं होती है धन- दौलत की कमी

चलिए जानते विस्तार से-

हिंदू धर्म में हर दिन का अपना- अपना महत्व होता है और हर दिन किसी न किसी देवी-देवताओं से जुड़ा हुआ है. शास्त्रों में बृहस्पतिवार को धन और समृद्धि के लिए खास तौर पर माना जाता है. भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करने के लिए बृहस्पतिवार का दिन सबसे शुभ बताया गया है. गुरुवार को लक्ष्मी- नारायण दोनों की एक साथ पूजा करने से जीवन सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है. ऐसा कहा जाता है कि बृहस्पति की पूजा करने से पति- पत्नी के बीच कभी दूरियां नहीं आती है. साथ ही धन में भी बढ़ोतरी होती है.

जो लोग प्रत्येक गुरुवार को करते है यह काम, कभी नहीं होती धन- दौलत की कमी-

बृहस्पतिवार को क्या करना चाहिए?

ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान करें. स्नान के समय ॐ बृ बृहस्पते नमः’ का जाप भी करें. स्नान करने के बाद पीले रंग का वस्त्र पहनें. इसके बाद भगवान विष्णु की प्रतिमा व चित्र के सामने घी का दीपक जलाएं. भगवान विष्णु को पीले रंग के फूलों के साथ तुलसी का एक छोटा सा पत्ता अर्पित करें और अपने माथे पर हल्दी, चंदन या केसर का तिलक लगाएं.

माना जाता है कि भगवान बृहस्पति को पीले रंग की चीजें बहुत पसंद है. इसलिए इस दिन ब्राह्मणों को पीले रंग की वस्तुएं जैसे- चने की दाल और फल आदि दान करें.

बृहस्पतिवार के दिन सुबह के समय चने की दाल और थोड़ा सा गुड़ घर के मुख्य द्वार पर रखें.

शास्त्रों के अनुसार जो लोग प्रत्येक बृहस्पतिवार को ऐसा करते हैं, कहा जाता है कि घर में धन की बरकत होती है और कभी भी किसी चीज की कमी नहीं होती है. इस दिन पीले रंग की चीजों का विशेष महत्व दिया जाता है इसलिए आप चाहे तो पूरे दिन भी पीले रंग के वस्त्र धारण कर सकते हैं.

नोट- यह पोस्ट शैक्षनिक उद्देश्य से लिखा गया है. हालांकि पूजा- पाठ करना तो किसी भी तरह से नुकसानदायक नहीं है. लेकिन इस उपाय को करने से पहले योग्य ज्योतिष की सलाह जरूर लें. धन्यवाद. 

Post a Comment

0 Comments