गर्भावस्था के दौरान महिलाएं रखें इन बातों का ध्यान, बच्चा होगा तंदुरुस्त और तेज

कल्याण आयुर्वेद- एक महिला को गर्भधारण करते ही घर का माहौल बदल जाता है.पति-पत्नी ही नही बल्कि घर के सभी सदस्य झूम उठते हैं.क्योंकि उनके घर में नया मेहमान जो आने वाला होता है.हालाँकि इस दौरान माँ को कई कष्टों का सामना करना पड़ता है जिसे एक माँ ख़ुशी-ख़ुशी सहन कर लेती है.लेकिन इस दौरान कुछ महिलाएं अपने स्वास्थ पर ध्यान नही देती हैं जिससे गर्भस्थ शीशु का शारीरिक और मानसिक विकास सही ढंग से नही होने पाता है.जिससे बच्चा सुस्त और बुद्धिहीन हो सकता है.लेकिन आज हम कुछ ध्यान रखने योग्य बातें बताने जा रहे हैं जिससे गर्भस्थ शिशु का शारीरिक और मानसिक बिकास में मददगार होता है.और जन्म लेने के बाद बच्चा तेज होता है.

गर्भावस्था के दौरान महिलाएं रखें इन बातों का ध्यान, बच्चा होगा तंदुरुस्त और तेज
तो चलिए जानते हैं विस्तार से-

स्वास्थ विशेषज्ञों ने हाल ही में उन कारकों का पता लगाने का दावा किया है कि गर्भस्थ शिशु का आईक्यू लेबल विकसित किया जा सकता है.अगर ऐसे में माँ चाहे तो गर्भस्थ शिशु का आईक्यू लेबले बूस्ट कर सकती है.सिर्फ माँ को इन बातों का ध्यान रखना पड़ेगा.

1 .आवाज का एहसास-

गर्भावस्था के दौरान महिला को सुकून भरी गाने सुनना,अच्छी किताबे पड़ना,कविताएँ पढ़ना बच्चे के मस्तिष्क को तेजी से बढाता है.विज्ञान के अनुसार २३ वे सप्ताह के बाद गर्भस्त शिशु आवाजों का रिस्पोंस भी देना शुरू कर देता है.और माँ की आवाज बच्चे के लिए खास ह्गोती है.

2 .खान-पान-
गर्भावस्था के दौरान खान-पान का असर बच्चे पर पड़ता है.इसलिए गर्भवस्था के दौरान माँ को पौष्टिक चीजों का सेवन करना चाहिए.ओमेगा 3 युक्त आहार बच्चे के मानसिक विकास के लिए फायदेमंद होता है.गर्भावस्था में डाईट जरुर लें.
3 .बाहरी चीजों का असर-
माँ की छुअन भी बच्चे के मानसिक विकास को प्रभावित करती है. साथ ही प्रयास करना चाहिए की सूरज की सीधी रोशनी गर्भ पर नही पड़े.बच्चे के लिए नुकसानदायक हो सकती है.साथ ही गर्भावस्था के दौरान माँ के उठने बैठने,चलने आदि से भी बच्चे के मानसिक विकास को प्रभावित करता है.गर्भस्थ शिशु पर वातावरण का भी असर पड़ता है इसलिए ऐसी बातावरण में रहें जहाँ धार्मिक बाते ज्यादा होती है.
4 .तनाव से दूर रहें-
गर्भवस्था के दौरान माँ को तनाव लेना भी बच्चे के मानसिक विकास को प्रभावित करती है.और बच्चे पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है.इसलिए तनाव से दूर रहें.
5 .बुरी आदतें-
कई महिलाएं सिगरेट,शराब,धुम्रपान का सेवन करती हैं जिसका असर गर्भस्थ शिशु पर पड़ता है.जिसका असर मानसिक विकास पर भी पड़ सकता है.इसलिए इससे दूर रहें.साथ ही शराब,धुम्रपान से आपके साथ बच्चे के स्वास्थ पर बुरा असर पड़ता है.जिससे बच्चे का मानसिक विकास रुक सा जाता है.
तो गर्भावस्था के दौरान हर माँ को इन बातों का ध्यान रखना उनके बच्चे को तेज बनाने में मददगार होता है.
यह जानकारी अच्छी लगी हो तो लाइक,शेयर और कमेन्ट करें.धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments